नासा ने खोजी ग्रहों और तारों के बीच की संभावित कड़ी

वाशिंगटन, नासा की अंतरिक्ष दूरबीनों – स्पिट्जर और स्विफ्ट ने अपनी तरह का पहला तालमेल करते हुए एक ब्राउन ड्वार्फ :ग्रह से बड़ा लेकिन तारे से छोटा आकाशीय पिंड: का पता लगाया है। इसे अब तक ग्रहों और तारांे के बीच की लापता कड़ी माना जा रहा है। इसका वजन बृहस्पति के वजन से लगभग 80 गुना है।

शोधकर्ताओं ने एक ऐसी घटना :माइक्रोलेंसिंग इवेंट: का निरीक्षण किया, जिसके तहत एक सुदूर तारा अग्रभाग में स्थित कम से कम एक अंतरिक्षीय पिंड के गुरूत्व क्षेत्र के कारण चमकने लगता है।

यह तकनीक तारों के चारों ओर घूमने वाले कम द्रव्यमान वाले पिंडों :जैसे ग्रह: का पता लगाने में उपयोगी है। इस मामले में निरीक्षणों ने एक ब्राउन ड्वार्फ का पता लगाया है।

ब्राउन ड्वार्फ का द्रव्यमान तो बृहस्पति से 80 गुना होता है लेकिन इनके केंद्र इतने गर्म या सघन नहीं होते कि तारों की तरह नाभिकीय संलयन के जरिए उर्जा पैदा कर सकें।

स्पिट्जर और स्विफ्ट ने इसका पता जमीन आधारित सूक्ष्म सर्वेक्षणों की मदद से मिली जानकारी के आधार पर लगाया है। इन सर्वेक्षणों में प्रकाशीय गुरूत्वीय लेंस प्रयोग भी शामिल है।

यह पहला मौका है जब दो अंतरिक्षीय दूरबीनों ने इस घटना का पता लगाने के लिए समायोजन किया है।