हमें छोटी छोटी चीजों पर ध्यान देने की जरूरत है : कोहली

दुबई,  रॉयल चैलेंजर्स बेंगलोर (आरसीबी) के कप्तान विराट कोहली ने मुंबई इंडियन्स के खिलाफ सुपर ओवर में मिली जीत के बाद कहा कि अगर उनकी टीम को आगे इस तरह की परिस्थितियों से बचना है तो क्षेत्ररक्षण में सुधार करना होगा और छोटी छोटी चीजों पर ध्यान देना होगा।

आरसीबी ने पहले बल्लेबाजी का न्योता मिलने पर तीन विकेट पर 201 रन का मजबूत स्कोर बनाया था। मुंबई ने इसके जवाब में आरसीबी के लचर क्षेत्ररक्षण का फायदा उठाकर आखिरी चार ओवर में 80 रन जोड़कर पांच विकेट पर 201 रन बनाये और मैच को सुपर ओवर तक पहुंचाया। आरसीबी ने सुपर ओवर में जीत दर्ज करके तीन मैचों में दूसरा मैच अपने नाम किया।

कोहली ने कहा, ‘‘मेरे पास मैच को बयां करने के लिये शब्द नहीं है क्योंकि यह बहुत उतार चढ़ाव वाला रहा। हमने बहुत अच्छी बल्लेबाजी की और 200 से अधिक का स्कोर बनाया और फिर गेंदबाजी में भी अच्छी शुरुआत की। उन्होंने बीच के ओवरों में संयम से काम लिया और ओस के प्रभाव का इंतजार करते रहे। ’’

उन्होंने कहा, ‘‘क्षेत्ररक्षण ऐसा विभाग है जिस पर हमें काम करते रहना होगा। अगर हमने कैच नहीं छोड़े होते तो यह मैच इतना करीबी नहीं होता। जैसे मैंने कहा कि हमने छोटी छोटी चीजों का फायदा नहीं उठाया। हमें इस पर काम करना होगा। ’’

सुपर ओवर में विजयी चौका जड़ने वाले कोहली ने कहा, ‘‘जसप्रीत (बुमराह) के साथ मुकाबला अच्छा रहा। लोग इस तरह का मैच देखना पसंद करते हैं। लेकिन हमें इस तरह के मैचों से सबक लेकर भविष्य में मैचों का बेहतर अंत करना होगा। ’’

मुंबई इंडियन्स के कप्तान रोहित शर्मा ने इशान किशन और कीरोन पोलार्ड की प्रशंसा की जिन्होंने टीम को मैच में वापसी दिलायी। किशन ने 99 और पोलार्ड ने नाबाद 60 रन बनाये।

रोहित ने कहा, ‘‘यह शानदार मैच था। हमारी बल्लेबाजी में जिस तरह से शुरुआत हुई थी उससे हम जीत से बहुत दूर थे लेकिन इशान ने शानदार पारी खेलकर हमें वापसी दिलायी। पोली (पोलार्ड) हमेशा की तरह लाजवाब थे। जब पोलार्ड क्रीज पर हो तो कुछ भी हो सकता है और इशान ने अच्छे शॉट खेले। हमने उन्हें दबाव में रखा। ’’

इशान किशन को सुपर ओवर में नहीं उतारने के बारे में रोहित ने कहा, ‘‘वह काफी थक गया था और सुपर ओवर को लेकर सहज नहीं था। वह तरोताजा महसूस नहीं कर रहा था। हार्दिक ऐसा खिलाड़ी है जिस पर विश्वास किया जा सकता है कि वह लंबे शॉट खेल सकता है। ऐसा नहीं हुआ लेकिन हमें फिर भी विश्वास था। जब सात रन का बचाव करना हो तो भाग्य भी आपके साथ होना चाहिए। ’’