ट्रंप पर राजद्रोह का आरोप भी लग सकता है

वाशिंगटन,   अमेरिका के कोलंबिया जिले के एक शीर्ष संघीय अभियोजक ने कहा है कि कैपिटल बिल्डिंग (अमेरिकी संसद भवन) में हिंसा करने वाले अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के समर्थकों के खिलाफ आरोप तय करने के लिए ‘‘सभी विकल्पों पर विचार किया जा रहा है’’।

वाशिंगटन डीसी के कार्यवाहक अटॉर्नी माइकल शेरविन ने कहा कि अभियोजक उपद्रवियों पर अनाधिकृत प्रवेश, संपदा की चोरी समेत 15 मामले दर्ज करने की योजना बना रहे हैं तथा कई अन्य आरोप तय करने के लिए जांचकर्ता अभी और सबूत जुटा रहे हैं।

उन्होंने कहा, ‘‘ उन सभी आरोपों पर विचार किया जा रहा है…. हम अधिक से अधिक आरोप तय करने की कोशिश करेंगे।’’

अमेरिका में लोकतंत्र पर एक अप्रत्याशित हमले में निवर्तमान राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के हजारों समर्थकों ने वाशिंगटन डीसी स्थित कैपिटल बिल्डिंग (अमेरिकी संसद भवन) पर हमला किया और पुलिस के साथ भी उनकी झड़प हो गई थी। इस मामले में पुलिस ने 90 से अधिक लोगों का गिरफ्तार किया है तथा अभी और लोगों को भी गिरफ्तार किया जा सकता है।

विशेषज्ञों का कहना है कि कुछ उपद्रवियों पर राजद्रोह के आरोप भी लगाए जा सकते हैं।

दरअसल, पिछले वर्ष सितंबर में तत्कालीन उप अटॉर्नी जनरल जेफरी रोसन ने एक मेमो में अभियोजकों से कहा था कि वे हिंसक प्रदर्शनकारियों पर राजद्रोह के आरोप लगाने पर विचार कर सकते हैं। न्याय विभाग की ओर से यह बात अश्वेत अमेरिकियों की पुलिस के हाथों हुई मौत की घटनाओं के बाद भड़की हिंसा की पृष्ठभूमि में कही गई थी।