मप्र में रेल सेवा आरंभ होने के बाद संदिग्ध संक्रमितों को 14 दिन के लिए किया जाएगा पृथक

भोपाल,   मध्यप्रदेश के गृह एवं स्वास्थ्य मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि एक जून से रेल सेवा आरंभ होने के बाद प्रदेश के रेलवे स्टेशनों पर यात्रियों की थर्मल स्क्रीनिंग की जायेगी। इसमें जिन यात्रियों के संक्रमित होने का संदेह होगा उन्हें 14 दिन के लिए पृथक केंद्र में रखा जाएगा।

मिश्रा ने शुक्रवार को बताया कि एक जून से रेल सेवा शुरू होने के बाद राज्य में 15 ट्रेनों का ठहराव होगा। सेवाएं बहाल होने पर रेल आवागमन संबंधी केन्द्रीय गृह मंत्रालय और स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी मानक संचालन प्रक्रिया (एसओपी) का पालन सुनिश्चित कराने के निर्देश दिए गए हैं।

उन्होंने बताया कि मध्यप्रदेश के रेलवे स्टेशनों पर यात्रियों की थर्मल स्क्रीनिंग एवं अन्य प्रबंधों के लिए जिलाधीशों को निर्देश दिए गए हैं। जिन यात्रियों के जाँच में संक्रमित होने का संदेह होगा उन्हें 14 दिन के लिए पृथक केंद्र में रखा जाएगा। जो यात्री पृथक केंद्र में रहने से इनकार करेंगे तो उन्हें खुद के खर्चें पर राज्य सरकार द्वारा निर्धारित निजी होटलों में पृथक रखा जाएगा।

उन्होंने बताया कि पृथक अवधि पूरी होने के बाद उनकी फिर से जाँच की जायेगी और उसमें संक्रमित न पाए जाने पर ही घर जाने की अनुमति दी जायेगी।

भोपाल रेल मंडल प्रबंधक से प्राप्त जानकारी के अनुसार मध्यप्रदेश में ट्रेनों का ठहराव सागर, विदिशा, रायसेन, भोपाल, होशंगाबाद, हरदा, खंडवा, अशोकनगर, गुना, राजगढ़ और शाजापुर जिले में होगा।