कोरोना वायरस ट्रांसमिशन का खतरा अभी भी बरकरार : जॉनसन

लंदन, । कोविड महामारी से जूझ रहे ब्रिटेन में यूं तो स्कूल खुल गए हैं, लाखों की तादाद में विद्यार्थी अपनी कक्षाएं भी कर रहे हैं, लेकिन इस बीच प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने इस वायरस के खतरे के प्रति आगाह करते हुए कहा है कि खतरा अभी पूरी तरह से टला नहीं है। उन्होंने कहा कि इस वायरस के अभी और फैलने की संभावना प्रबल है। कोरोनावायरस संचरण का बढ़ता जोखिम अपरिहार्य है।

जॉनसन ने सोमवार को डाउनिंग स्ट्रीट में एक प्रेस ब्रीफिंग में कहा, हम निश्चित रूप से स्वीकार करते हैं कि ट्रांसमिशन का खतरा बढ़ जाएगा और यह अवश्यंभावी है।

सिन्हुआ न्यूज एजेंसी की रिपोर्ट के अनुसार, जॉनसन ने यह भी कहा कि अधिक खतरा/आशंका इस बात को लेकर है कि अगर ऐसा होता है तो बच्चे लंबे समय तक स्कूल नहीं जा पाएंगे।

लॉकडाउन से बाहर निकलने के लिए जॉनसन के लंबे समय से प्रतीक्षित रोडमैप के हिस्से के रूप में सोमवार सुबह स्कूल फिर से खुल गए।

स्कूलों को फिर से खोलना चार चरणों वाली योजना का पहला हिस्सा है। जॉनसन ने 22 फरवरी को कहा था कि यह योजना सतर्कता बरतने के उद्देश्य से बनाई गई थी।

इसके तहत दो लोगों को किसी बाहरी सार्वजनिक स्थान मसलन पार्क में जाने अनुमति दी गई है। इसका अर्थ है कि उन्हें कॉफी, पेय या पिकनिक के लिए बैठने की अनुमति होगी।

उम्मीद की जा रही है कि इंग्लैंड में 21 जून से सभी कानूनी सामाजिक प्रतिबंध हटा दिए जाएंगे।

सोमवार की ब्रीफिंग में जॉनसन ने कहा कि सरकार आत्मविश्वास के साथ लॉकडाउन को आसान बनाने का पहला कदम उठा सकती है क्योंकि पूरी ब्रिटिश आबादी का एक तिहाई टीकाकरण हो चुका है।

उन्होंने कहा कि हम हर वक्त आंकड़ों पर नजर बनाए हुए हैं।

ब्रीफिंग में जॉनसन के साथ इंग्लैंड के उप मुख्य चिकित्सा अधिकारी जेनी हैरिस भी मौजूद थे। उन्होंने स्कूल खोले जाने के बाद वायरस ट्रांसमिशन के प्रभावों को स्वीकार किया।

उन्होंने कोरोनोवायरस प्रजनन संख्या की चर्चा करते हुए कहा कि हम उम्मीद करते हैं कि प्रभाव तो होगा, लेकिन सार्वजनिक स्वास्थ्य के लिए शिक्षा महत्वपूर्ण है।

नवीनतम आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार, ब्रिटेन में 22.3 मिलियन से अधिक लोगों को कोरोनोवायरस वैक्सीन लगाई जा चुकी है। फिर भी, जॉनसन ने लोगों से ढिलाई न बरतने एवं हरसंभव एहतियाती उपाय सुनिश्चित करने का आग्रह किया है क्योंकि संक्रमण का खतरा अभी भी बना हुआ है।

उन्होंने कहा कि पिछली गर्मियों की तुलना में कोविड के साथ अस्पताल में भर्ती मरीजों की संख्या अभी भी आठ गुना अधिक है। इसलिए नियमों का पालन पहले से कहीं अधिक महत्वपूर्ण है।