झांसी की रानी लक्ष्मीबाई की शौर्य गाथा देशवासियों के लिए हमेशा प्रेरणास्रोत बनी रहेगी: मोदी

नयी दिल्ली,   प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने बृहस्पतिवार को महान स्वतंत्रता सेनानी रानी लक्ष्मीबाई को उनकी जयंती पर श्रद्धांजलि अर्पित की और कहा कि उनकी शौर्य गाथा देशवासियों के लिए हमेशा प्रेरणास्रोत बनी रहेगी।

उन्होंने ट्वीट किया, ‘‘आजादी की पहली लड़ाई में अद्भुत पराक्रम का परिचय देने वाली वीरांगना रानी लक्ष्मीबाई को उनकी जयंती पर कोटि-कोटि नमन। उनकी शौर्यगाथा देशवासियों के लिए हमेशा प्रेरणास्रोत बनी रहेगी।’’

महारानी लक्ष्मीबाई का जन्म काशी में 19 नवंबर 1835 को हुआ था। बाल्यकाल में वह मनुबाई के नाम से जानी जाती थीं। झांसी के राजा गंगाधर राव से उनका विवाह हुआ था। अंग्रेजों के साथ युद्ध करते हुए स्वतंत्रता संग्राम में उन्होंने अपने प्राणों की आहुति दी।