कृष्ण बसंती काव्य समारोह में कवियों ने जमाया रंग

उज्जैन। कृष्ण बसंती संस्था द्वारा संस्था अध्यक्ष डॉ. मोहन बैरागी के पिता स्व. कृष्ण दास बैरागी की स्मृति में स्थानीय कालिदास अकादमी में काव्य समारोह का आयोजन किया गया। समारोह में विख्यात कवि जानी बैरागी को स्व. बालकवि बैरागी सम्मान तथा कवि श्री अशोक चारण को स्व. कृष्ण दास बैरागी सम्मान दिया गया।

कवि सम्मेलन की शुरुआत कवियत्री प्रेरणा ठाकरे ने सरस्वती वंदना से की। पहले कवि के रूप में हास्य व्यंग्य कवि सौरभ ओपनिंग बैट्समैन की तरह धुँवाधार बल्लेबाजी की तथा अपनी प्रतिनिधि कविता ‘माँÓ सुनाकर खूब दाद बटोरी। अगले क्रम में कवियत्री प्रेरणा ठाकरे ने विशुद्ध हिंदी गीत पढ़ा, जिस पर श्रोताओं ने खूब तालियां दी। डॉ. मोहन बैरागी ने रिश्तों के बदलाव पर आधारित अपना प्रतिनिधि गीत पढ़ा। इसके बाद हास्य कवि सुरेंद्र सर्किट ने चुटीले हास्य व्यंग्य छोड़े तथा श्रोताओं को खूब गुदगुदाया। जयपुर से आये देश के वीर रस के कवि अशोक चारण ने माहौल में गर्माहट पैदा की और तिरंगा गीत पढ़ा। हास्य के जादूगर जानी बैरागी ने श्रोताओं को खूब हंसाया और श्रेष्ठ कविताओं से मनोरंजन किया। कवि सम्मेलन का संचालन अशोक भाटी ने किया तथा आभार डॉ. ओ.पी. वैष्णव ने माना।