दुनिया के सबसे छोटे सरीसृप बनने दौड़ में शामिल नन्हे गिरगिट

बर्लिन,  मेडागास्कर और जर्मनी के वैज्ञानिकों ने कहा कि खोजी गई गिरगिट की नयी प्रजाति दुनिया की सबसे छोटी सरीसृप प्रजाति बनने की दौड़ में शामिल है। इस प्रजाति के गिरगिट इतने छोटे होते हैं कि इन्हें इंसान की एक उंगली पर भी आराम से रखा जा सकता है।

‘ब्रूकेसिया नेना’ नामक इस गिरगिट की प्रजाति का पता लगाने वाले खोजकर्ताओं की अंतरराष्ट्रीय टीम का हिस्सा रहे फ्रैंक ग्लॉ ने कहा कि नर गिरगिट की लंबाई महज 13.5 मिलीमीटर यानी आधा इंच से थोड़ी अधिक होती है।

ब्रूकेसिया परिवार के जिस अन्य सदस्य के नाम सबसे छोटा सरीसृप होने का रिकॉर्ड दर्ज है, यह उससे कम से कम 1.5 मिलीमीटर छोटा है।

म्यूनिख में ‘बवेरियन स्टेट जूलॉजी कलेक्शन’ में सरीसृप प्रजातियों के विशेषज्ञ ग्लॉ ने कहा कि 2012 में एक स्थानीय गाइड ने पर्वतीय इलाके में खोजी अभियान के दौरान नन्हे नर गिरगिट और उसे थोड़े बड़े आकार के मादा गिरगिट का पता लगाया था।

ग्लॉ ने शुक्रवार को एसोसिएटिड प्रेस (एपी) को टेलीफोन पर दिये साक्षात्कार में कहा, ‘आपको उन्हें देखने के लिये सचमुच घुटनों के बल बैठना पड़ेगा। वे देखते ही देखते नजरों से ओझल हो जाते हैं और बहुत धीरे-धीरे चलते हैं।’

उन्होंने कहा कि ब्रूकेसिया नेना के सबसे छोटी सरीसृप प्रजाति होने की पुष्टि करने के लिये उनपर अतिरिक्त अध्ययन की जरूरत है। इसमें कई वर्ष लग सकते हैं। टीम का अध्ययन हाल ही में ‘साइंटिफिक रिपोर्ट्स’ नामक पत्रिका में प्रकाशित हुआ है।