कमला हैरिस का अमेरिकी अर्थव्यवस्था पर पहला भाषण

न्यूयॉर्क,   अमेरिका की पहली भारतीय और अश्वेत अमेरिकी उपराष्ट्रपति चुनी गईं कमला हैरिस ने सोमवार की दोपहर को कोरोनावायरस के कारण प्रभावित हुई अमेरिकी अर्थव्यवस्था पर अपनी पहली टिप्पणी दी। हैरिस ने इंडस्ट्री के लीडर्स के साथ बैठक करने के बाद भाषण दिया। चुनाव जीतने के बाद हैरिस का अर्थव्यवस्था पर यह पहला भाषण था।

उन्होंने कहा, राष्ट्रपति-चुने गए बाइडेन और मैंने हमारे देश के कुछ बिजनेस और यूनियन लीडर्स से मुलाकात की। वे हमारे देश भर में लाखों श्रमिकों और अमेरिका की कुछ अग्रणी प्रौद्योगिकी, ऑटो और खुदरा कंपनियों का प्रतिनिधित्व करते हैं। इस महामारी से श्रमिकों पर पड़ने वाले प्रभाव पर हमने अहम बातचीत की। विशेष रूप से जरूरी श्रमिकों, फ्रंटलाइन वर्कर्स – जिन्होंने अपने और अपने परिवार के स्वास्थ्य को जोखिम में डालकर दूसरों की सेवा की। कई लोगों ने तो हमें सुरक्षित रखने और हमारी अर्थव्यवस्था को चालू रखने में अपना जीवन दे दिया।

 

महामारी के कारण अश्वेतों पर हुए असर को लेकर उन्होंने कहा, महामारी और मंदी ने अश्वेत अमेरिकियों को ज्यादा प्रभावित किया है। पिछले महीने अश्वेत अमेरिकियों के लिए बेरोजगारी दर दूसरों की तुलना में लगभग दोगुनी थी।

व्यवसायों पर हुए असर पर हैरिस ने कहा, इस महामारी ने हमारी अर्थव्यवस्था पर इस तरह असर डाला है कि इससे फॉर्च्यून 500 से लेकर छोटे व्यवसायों तक सभी प्रभावित हुए हैं, जिस पर इतने सारे समुदाय भरोसा करते हैं। श्रमिकों ने भी अपने संघर्षों के अनुभव हमसे साझा किए। छोटे व्यवसायों के मालिक जिन्होंने अपने कर्मचारियों को बनाए रखने के लिए पूरी जमापूंजी लगा दी और अपने दरवाजे खुले रखे। कई ऐसे लोग भी थे जिन्होंने इस डर से अपने दरवाजे बंद कर लिए कि अब फिर से कुछ नहीं खुलेगा।

उन्होंने आगे कहा, चुनाव अभियान के दौरान और बाद में ऐसी कई कहानियां हमने देखीं-सुनीं। अब मैं और बाइडेन सभी अमेरिकियों के लिए अपने देश को बेहतर बनाने के लिए पूरी तरह से केंद्रित हैं। जैसा कि मैंने चुनाव जीतने की रात को कहा था कि असली काम अब शुरू हुआ है। इस वायरस को नियंत्रण में रखना, लोगों की जान बचाना, इस महामारी को मारना और हमारी अर्थव्यवस्था को जिम्मेदारी से खोलना और इसे बेहतर करना।

हैरिस ने आखिर में कहा, आगे की राह आसान नहीं होगी। लेकिन हम सब जानते हैं आज अमेरिका के सामने जो चुनौतियां हैं, वे बहुत बड़ी हैं और हमारे पास बर्बाद करने के लिए एक पल भी नहीं है।