सिडनी टेस्ट में फिर नस्लीय टिप्पणी का शिकार हुई भारतीय टीम, दर्शक स्टैंड से हटाए गए

सिडनी,  । मोहम्मद सिराज के खिलाफ रविवार को भी सिडनी क्रिकेट ग्राउंड (एससीजी) के दर्शक दीर्घा से नस्लीय टिप्पणी की गई। इस कारण खेल कुछ समय तक रुका रहा। पुलिस ने स्टैंड से कुछ दर्शकों को स्टेडियम से बाहर कर दिया। इससे पहले शनिवार को भी दर्शकों ने सिराज के खिलाफ इसी तरह की टिप्पणी की थी।

रविवार को सिराज दूसरे सत्र के खेल के दौरान जब बाउंड्री के पास तैनात थे तब किसी दर्शक ने उन्हें लेकर टिप्पणी की। उस समय आस्ट्रेलियाई पारी का 86वां ओवर चल रहा था। सिराज तुरंत कप्तान अजिंक्य रहाणे के पास पहुंचे और उन्हें इसकी जानकारी दी।

मामले की गम्भीरता को देखते हुए कप्तान ने अम्पायर पॉल राफेल को इस बारे में बताया। पॉल ने बिना देरी किए मैच रेफरी को इसकी जानकारी दी और फिर मैच रेफरी ने सुरक्षा अधिकारियो को बताया कि स्टैंड से किसी सिराज के खिलाफ भद्दी टिप्पणी की है।

सुरक्षाकर्मियों ने उस स्थान का मुआयना किया, जहां से सिराज के अनुसार आवाज आई थी। कई लोगों से पूछताछ की गई और फिर चार-पांच लोगों को लेकर पुलिस स्टैंड से बाहर चली गई। इस घटना के कारण लगभग 10 मिनट तक खेल रुका रहा।

इससे पहले, शनिवार को भारतीय क्रिकेट टीम के अधिकारियों ने शिकायत की थी कि सिराज और जसप्रीत बुमराह पर दर्शकों ने नस्लीय टिप्पणी की है।

तीसरे दिन का खेल खत्म होने के बाद आईसीसी, स्टेडियम के सुरक्षा अधिकारी बुमराह और सिराज के साथ लंबी बातचीत करते हुए नजर आए और इस दौरान भारतीय टीम प्रबंधन के सदस्य भी उनके साथ थे।

टीम के कप्तान अजिंक्य रहाणे भी सुरक्षा अधिकारियों से बातें करते हुए नजर आए।

आस्ट्रेलियाई अखबार द डेली टेलीग्राफ की रिपोर्ट के मुताबिक, यह पता चला है कि भारतीय अधिकारियों ने कहा है कि बुमराह और सिराज पर दर्शकों द्वारा बीते दो दिन से फब्तियां कसी जा रही हैं जो नस्लीय हैं। मैदान के रैंडविंक छोर की तरफ जहां सिराज फील्डिंग कर रहे थे वहां दर्शकों में से यह टिप्पणी की गई।

रिपोर्ट के मुताबिक, एक और वाक्ये में, जब मैच चल रहा था तब भारतीय स्टाफ बुमराह के पीछे बाउंड्री के बाहर खड़ा था और उनसे बात भी कर रहा था।

क्रिके आस्ट्रेलिया ने आधिकारिक बयान जारी करते हुए कहा है कि वह इस तरह की घटना की निंदा करता है। सीए के इंट्रीगिटी एवं सिक्योरिटी प्रमुख सीन कॉरोल ने कहा है कि जो लोग इस तरह की घटनाओं में लिप्त हैं, सीए उनका कभी स्वागत नहीं करेगा।