आईपीएल-13 के प्लेऑफ में टीमें कैसे कर सकती हैं क्वालीफाई, एक नजर

शारजाह,   इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के मौजूदा सीजन में प्लेऑफ की रेस में काफी करीबी मुकाबला देखा जा रहा है। सिर्फ मुंबई इंडियंस ही प्लेऑफ में अपनी जगह पक्की कर पाई है।

लीग का आखिरी राउंड खेला जाना है और तीन जगहों के लिए छह टीमों में जंग जारी है।

मुंबई जगह पक्की कर चुकी है और पहले स्थान पर है। वहां से उसे कोई नहीं हटा सकता। चेन्नई सुपर किंग्स काफी पहले ही प्लेऑफ की रेस से बाहर हो चुकी है।

रविवार से शुरू होने वाले आखिरी राउंड से पहले रायल चैलेंजर्स बेंगलोर दूसरे और दिल्ली कैपिटल्स तीसरे स्थान पर है। सनराइजर्स हैदराबाद, किंग्स इलेवन पंजाब, राजस्थान रॉयल्स और कोलकाता नाइट राइडर्स, इन सभी के 12-12 अंक हैं। नेट रन रेट के आधार पर यह टीमें अलग-अलग बैठी हैं।

इस बात की पूरी संभावना है कि लीग चरण के आखिरी 56वें मैच के बाद नेट रन रेट के आधार पर प्लेऑफ की जगहें तय हों।

बाकी की छह टीमें किस तरह क्वालीफाई कर सकती हैं उस पर डालते हैं एक नजर।

दिल्ली कैपिटल्स

दिल्ली अपने लगातार चार मैच हार गई है और इसी के कारण उसके प्लेऑफ की संभावनाएं मुश्किल में पड़ गई है। उसे अब अपने आखिरी मैच में सोमवार को रॉयल चैलेंजर्स बेंगलोर को मात देनी होगी और दूसरा स्थान हासिल करना होगा। अगर वह ऐसा नहीं कर पाती है और बेंगलोर से मैच हार जाती है तो उसका क्वालीफाई करना बाकी दूसरी टीमों के मैचों के परिणामों पर निर्भर होगा।

इस स्थिति में दिल्ली को चाहिए होगा कि-

चेन्नई सुपर किंग्स, किंग्स इलेवन पंजाब को हरा दे और पंजाब 12 अंकों पर ही रहे। सनराजर्स हैदराबाद, मुंबई इंडियंस से हार जाए और 12 अंकों पर ही रहे।

कोलकाता नाइट राइडर्स और राजस्थान रॉयल्स का मैच काफी करीबी अंतर पर खत्म हो ताकि विजेता टीम के नेट रन रेट का दिल्ली पर असर नहीं पड़े।

रॉयल चैलेंजर्स बेंगलोर-:

बेंगलोर की स्थिति भी काफी हद तक दिल्ली की तरह है। अगर वह दिल्ली को हराती है तो प्लेऑफ के लिए क्वालीफाई कर सकती है जहां पहले क्वालीफायर में उसका सामना मुंबई इंडियंस से होगा।

अगर वह हारती है तो वह 14 अंकों पर ही बनी रहेगी और ऐसी स्थिति में उसे तीन में से दो स्थितियों को उसके पक्ष में चाहिए होगा।

किंग्स इलेवन पंजाब, चेन्नई सुपर किंग्स से हार जाए।

सनराइजर्स हैदराबाद, मुंबई इंडियंस से हार जाए।

कोलकाता-राजस्थान का मैच करीबी अंतर से खत्म हो ताकि विजेता के नेट रन रेट का बेंगलोर के ऊपर असर न पड़े।

सनराइजर्स हैदराबाद-:

इस टीम की स्थिति बेहद साफ है। यह 12 अंकों के साथ अभी चौथे स्थान पर है। इसका कारण उसकी नेट रन रेट है।

उसे अपने अंतिम मैच में मुंबई इंडियंस को मात देनी है। लेकिन मुंबई जीत जाती है तो यह टीम बाहर हो जाएगी।

किंग्स इलेवन पंजाब-:

13 मैचों में 12 अंक, लोकेश राहुल की कप्तानी वाली यह टीम पांचवें स्थान पर है। अगर पंजाब अपने अंतिम मैच में चेन्नई को हरा देती है तो उसके 14 अंक हो जाएंगे। यह जीत भी हालांकि उन्हें क्वालीफाई की गारंटी नहीं देगी क्योंकि बाकी तीन टीमें भी 14 अंक पर आएंगी और ऐसे में नेट रन रेट काफी अहम हो जाएगी

पंजाब की नेट रन रेट बंगलोर और दिल्ली से ज्यादा है जिसका मतलब है कि अगर पंजाब अपने आखिरी मैच में चेन्नई को हरा देती है तो दिल्ली और बेंगलोर के बीच में हारने वाली टीम का रन रेट पंजाब से कम ही रहेगा।

अगर पंजाब को सीधे क्वालीफाई करना है तो उसे चेन्नई को तो हराना होगा और उम्मीद भी करनी होगी कि हैदराबाद अपने आखिरी मैच में मुंबई से हार जाए या कोलकाता-राजस्थान के मैच का फैसला छोटे अंतर से हो ताकि विजेता टीम के नेट रन रेट का पंजाब पर असर न पड़े।

लेकिन पंजाब अगर हार जाती है तो वह बाहर हो जाएगी।

राजस्थान रॉयल्स-:

अपने आखिरी दो मैच जीतने के साथ ही स्टीव स्मिथ की कप्तानी वाली राजस्थान रॉयल्स ने अपने आप को प्लेऑफ की रेस में बनाए रखा है। सीधे क्वालीफाई करने के लिए उसे कोलकाता को हराना होगा और उम्मीद करनी होगी कि पंजाब को चेन्नई के खिलाफ हार मिले और मुंबई को हैदराबाद के खिलाफ जीत।

राजस्थान रॉयल्स हालांकि रविवार को जीतने के बाद भी नेट रन रेट के आधार पर बाहर हो सकती है लेकिन इसके लिए जरूरी है कि पंजाब और हैदराबाद अपने-अपने मैच जीतें।

लेकिन कोलकाता से हार राजस्थान को लीग से बाहर कर देगी।

कोलकाता नाइट राइडर्स-:

कोलकाता के अभी 13 मैचों में 12 अंक हैं। वह ज्यादा से ज्यादा 14 अंक के साथ लीग चरण का अंत कर सकती है जो बाकी की तीन टीमों- पंजाब, हैदराबाद, और दिल्ली-बेंगलोर के मैच में हारने वाली टीम, के बराबर हो सकते हैं। लेकिन एक चीज इयोन मोर्गन की कप्तानी वाली टीम के खिलाफ जा सकती है और वो है नकारात्मक रन रेट।

उसके लिए क्वालीफाई करने के लिए रास्ता है कि वह राजस्थान को हराए और उम्मीद करे कि चेन्नई पंजाब को और मुंबई हैदराबाद को हरा दे। इस स्थिति में कोलकाता 14 अंकों के साथ लीग चरण का अंत करेगी जबकि हैदराबाद, राजस्थान और पंजाब 12-12 अंकों के साथ ऐसे में कोलकाता नेट रन रेट के आधार पर क्वालीफाई कर जाएगी।

अगर वह राजस्थान से हार जाती है तो बाहर हो जाएगी।