होल्डर और विलियमसन ने सनराइजर्स को क्वालीफायर में पहुंचाया

अबुधाबी,   जैसन होल्डर के आलराउंड खेल और केन विलियमसन की सधी हुई पारी से सनराइजर्स हैदराबाद ने शुक्रवार को यहां कम स्कोर वाले रोमांचक मैच में रॉयल चैलेंजर्स बेंगलोर (आरसीबी) को छह विकेट से हराकर इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के क्वालीफायर में जगह बनायी।

सनराइजर्स रविवार को दूसरे क्वालीफायर में दिल्ली कैपिटल्स का सामना करेगा जिसे पहले क्वालीफायर में मुंबई इंडियन्स से 57 रन से हार झेलनी पड़ी थी।

होल्डर ने 25 रन देकर तीन महत्वपूर्ण विकेट लिये जबकि टी नटराजन ने 33 रन देकर दो विकेट हासिल किये जिसमें एबी डिविलियर्स (43 गेंदों पर 56, पांच चौके) का विकेट भी शामिल है जिन्हें उन्होंने यार्कर पर बोल्ड किया। आरसीबी की तरफ से डिविलियर्स के अलावा आरोन फिंच (30 गेंदों पर 32 रन, तीन चौके, एक छक्का) ही कुछ योगदान दे पाये और उसकी टीम सात विकेट पर 131 रन तक ही पहुंच सकी।

आरसीबी के गेंदबाजों विशेषकर स्पिनरों ने सनराइजर्स के लिये स्कोर भी पहाड़ जैसा बना दिया था लेकिन विलियमसन की सकारात्मक बल्लेबाजी ने अंतर पैदा किया। उन्होंने एक छोर संभाले रखा और 44 गेंदों पर नाबाद 50 रन बनाये जिसमें दो चौके और दो छक्के शामिल हैं। उन्होंने होल्डर (20 गेंद पर नाबाद 24) के साथ 65 रन की अटूट साझेदारी की जिससे सनराइजर्स ने 19.4 ओवर में चार विकेट खोकर लक्ष्य हासिल कर दिया।

मोहम्मद सिराज (28 रन देकर दो) से मिली शानदार शुरुआत के बाद आरसीबी के स्पिनरों एडम जंपा (12 रन देकर एक) और युजवेंद्र चहल (24 रन देकर एक) ने आठ ओवरों में केवल 36 रन देकर दो विकेट लिये।

सनराइजर्स की शुरुआत भी अच्छी नहीं रही। उसे शीर्ष क्रम में ऋद्धिमान साहा की कमी खली जो चोटिल होने के कारण नहीं खेल पाये। उनकी जगह लेने वाले श्रीवत्स गोस्वामी ने अच्छी विकेटकीपिंग की लेकिन बल्लेबाजी में वह खाता भी नहीं खोल पाये।

मनीष पांडे (24) ने सिराज पर छक्का लगाया लेकिन यह तेज गेंदबाज पावरप्ले में ही दूसरे सलामी बल्लेबाज डेविड वार्नर (17) का विकेट लेने में सफल रहा। तीसरे अंपायर ने रिव्यू के जरिये वार्नर के खिलाफ फैसला दिया था। शुरू में ओस का प्रभाव कम दिख रहा था और स्पिनरों ने आते ही शिकंजा कस दिया।

पावरप्ले के बाद सात ओवरों में केवल 24 रन बने। इस बीच गेंद बाउंड्री तक नहीं पहुंची जबकि दो विकेट गिरे। जंपा ने पांडे को विकेट के पीछे कैच करवाया जबकि चहल ने प्रियम गर्ग (14 गेंदों पर सात) को चलता किया। विलियमसन ने सुंदर और चहल पर छक्के लगाकर रन गति बढ़ायी।

अंतिम ओवर में सनराइजर्स को नौ रन की जरूरत थी। ऐसे में होल्डर ने नवदीप सैनी की लगातार गेंदों पर चौके जड़कर टीम को लक्ष्य तक पहुंचाया।

इससे पहले सनराइजर्स के गेंदबाजों ने शुरू से ही शिकंजा कसकर टॉस जीतकर पहले क्षेत्ररक्षण करने के वार्नर के फैसले को सही साबित किया। होल्डर और नटराजन के अलावा उसके दोनों स्पिनरों राशिद खान (चार ओवर 22 रन) और शाहबाज नदीम (30 रन देकर एक विकेट) तथा तेज गेंदबाज संदीप शर्मा (चार ओवर 21 रन) ने भी कसी हुई गेंदबाजी की।

होल्डर ने अपने पहले दो ओवरों में सलामी बल्लेबाज के रूप में उतरे कप्तान विराट कोहली (छह) और बेहतरीन फार्म में चल रहे देवदत्त पडिक्कल (एक) को पवेलियन भेज दिया। पिच में थोड़ी घास थी और होल्डर ने उससे मिल रही उछाल का पूरा फायदा उठाया। गेंदबाजों ने इसके बाद भी बल्लेबाजों को खुलकर नहीं खेलने दिया।

फिंच और डिविलियर्स क्रीज पर थे लेकिन पारी का एकमात्र छक्का दसवें ओवर में फिंच ने राशिद खान पर लगाया। इससे फिंच ने आईपीएल में अपने 2000 रन भी पूरे किये। इसके बावजूद दस ओवर के बाद स्कोर दो विकेट पर 54 रन था और बल्लेबाजों पर दबाव साफ दिख रहा था।

इसका प्रभाव यह पड़ा कि फिंच ने रन गति बढ़ाने के प्रयास में नदीम के अगले ओवर में हवा में लहराता कैच दे दिया जबकि राशिद के कुशल क्षेत्ररक्षण से नये बल्लेबाज मोईन अली को तुरंत ही वापस लौटना पड़ा।

डिविलियर्स ने 20वीं गेंद का सामना करते हुए पहली बाउंड्री लगायी। उन्होंने 39 गेंदों पर पांचवें चौके की मदद से अपना अर्धशतक पूरा किया लेकिन दूसरे छोर से

शिवम दुबे (13 गेंदों पर आठ) को होल्डर ने तीसरा शिकार बनाया जबकि नटराजन ने पहले वाशिंगटन सुंदर (पांच) को आउट किया और फिर डिविलियर्स का खूबसूरत यार्कर पर कीमती विकेट लिया।