कानपुर की घटना उप्र में ‘गुंडाराज’ का प्रमाण: राहुल

नयी दिल्ली,  कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने उत्तर प्रदेश के कानपुर में अपराधियों के साथ मुठभेड़ में आठ पुलिसकर्मियों की मौत की घटना को राज्य में ‘गुंडाराज’ होने का प्रमाण करार देते हुए शुक्रवार को सवाल किया कि जब पुलिस सुरक्षित नहीं है तो जनता कैसे होगी।

पार्टी महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने भी इस मामले को लेकर आरोप लगाया कि उत्तर प्रदेश में अपराधी बेखौफ हो चुके हैं और आम लोग एवं पुलिस सुरक्षित नहीं हैं।

राहुल गांधी ने ट्वीट किया, ‘‘ उत्तर प्रदेश में गुंडाराज का एक और प्रमाण। जब पुलिस सुरक्षित नहीं, तो जनता कैसे होगी?’’

उन्होंने कहा, ‘‘मेरी शोक संवेदनाएं मारे गए वीर शहीदों के परिवारजनों के साथ हैं और मैं घायलों के जल्द स्वस्थ होने की कामना करता हूं।’’ कांग्रेस की उत्तर प्रदेश प्रभारी प्रियंका ने ट्वीट किया, ‘‘ बदमाशों को पकड़ने गई पुलिस पर बदमाशों ने अंधाधुंध फायरिंग कर दी जिसमें उप्र पुलिस के एसओ सहित 8 जवान शहीद हो गए। इन शहीदों के परिजनों के साथ मेरी शोक संवेदनाएं।’’

उन्होंने आरोप लगाया, ‘‘यूपी में कानून व्यवस्था बेहद बिगड़ चुकी है, अपराधी बेखौफ हैं। आमजन व पुलिस तक सुरक्षित नहीं है।’’

प्रियंका ने कहा, ‘‘कानून व्यवस्था का जिम्मा खुद मुख्यमंत्री के पास है। इतनी भयावह घटना के बाद उन्हें सख़्त कार्यवाही करनी चाहिए। कोई भी ढिलाई नहीं होनी चाहिए।’’

गौरतलब है कि कानपुर में अपराधियों के साथ मुठभेड़ में एक पुलिस उप अधीक्षक समेत आठ पुलिसकर्मियों की मौत हो गयी है और आठ पुलिस कर्मी घायल हो गए हैं, जबकि दो अपराधी भी इस दौरान मारे गए।

पुलिस ने बताया कि यह मुठभेड़ उस वक्त हुई जब पुलिस की एक टीम अपराधी विकास दुबे को पकड़ने के लिए बृहस्पतिवार देर रात चौबेपुर थाने के दिकरू गांव गयी। दुबे के खिलाफ 60 आपराधिक मामले दर्ज हैं।