दुबे मुठभेड़ : जस्टिस चौहान को हटाने की सुप्रीम कोर्ट में अर्जी

नयी दिल्ली,   उत्तर प्रदेश के दुर्दांत अपराधी विकास दुबे एवं उसके गुर्गों की पुलिस मुठभेड़ की जांच के लिए उच्चतम न्यायालय द्वारा गठित न्यायमूर्ति बी एस चौहान आयोग को फिर से पुनर्गठित करने का मामला एक बार फिर शीर्ष अदालत के समक्ष आया है। इस बार उच्चतम न्यायालय के पूर्व न्यायाधीश बी एस चौहान के खिलाफ भी अंगुली उठायी गयी है।याचिकाकर्ताओं में से एक -वकील घनश्याम उपाध्याय- ने इस बार न्यायमूर्ति चौहान का भारतीय जनता पार्टी से नजदीकी संबंध होने का आरोप लगाकर उन्हें आयोग से हटाने की मांग की है। याचिकाकर्ता का कहना है कि न्यायमूर्ति चौहान के भाई और समधी भाजपा के नेता हैं। यह पार्टी उत्तर प्रदेश में सत्तारूढ़ है।