सिंधिया के स्वागत में उमड़े भाजपा नेताओं ने कोविड-19 के दिशा-निर्देश ताक पर रखे : कांग्रेस

उज्जैन ,   कांग्रेस ने सोमवार को आरोप लगाया कि राज्यसभा सांसद बनने के बाद पहली बार इंदौर आये ज्योतिरादित्य सिंधिया के स्वागत के दौरान सत्तारूढ़ भाजपा के नेताओं ने कोविड-19 से बचाव के दिशा-निर्देशों का उल्लंघन किया।

प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता नीलाभ शुक्ला ने एक बयान में कहा, “तस्वीरें साफ बताती हैं कि स्थानीय हवाई अड्डे के परिसर में सिंधिया के स्वागत में जुटे भाजपा नेता कोविड-19 से बचाव के दिशा-निर्देशों का खुलेआम उल्लंघन करते हुए एक-दूसरे से सटकर कतार में खड़े थे। धक्का-मुक्की के बीच उन्होंने सिंधिया को गुलदस्ते भी भेंट किये।”

उन्होंने कहा कि सिंधिया के वफादार समर्थकों में गिने जाने वाले राज्य के जल संसाधन मंत्री तुलसीराम सिलावट भी 49 वर्षीय राज्यसभा सांसद के स्वागत के लिये हवाई अड्डे पहुंचे थे, जबकि कोरोना वायरस संक्रमण के इलाज के बाद सिलावट को तीन दिन पहले ही अस्पताल से छुट्टी दी गयी है।

शुक्ला ने कहा, “कोरोना वायरस संक्रमण से मुक्त होने वाले आम मरीजों को डॉक्टरों द्वारा सलाह दी जाती है कि वे सात दिन तक अपने घर में अलग रहें। लेकिन अपने राजनीतिक आका सिंधिया के स्वागत के लिये सिलावट ने इस सलाह का पालन करने की जहमत नहीं उठायी।”

उधर, प्रदेश भाजपा प्रवक्ता उमेश शर्मा ने कांग्रेस के आरोपों को खारिज करते हुए कहा कि सिंधिया के स्वागत के दौरान सिलावट और पार्टी नेताओं ने कोविड-19 के दिशा-निर्देशों का हरसंभव पालन किया। उन्होंने कहा, “राज्य में अपनी सत्ता खोने के बाद कांग्रेस सिंधिया के बारे में अनर्गल आरोप लगाकर अपनी खीझ उतार रही है।”

राज्य के आगामी विधानसभा उपचुनावों को लेकर बढ़ती राजनीतिक सरगर्मियों के बीच सिंधिया, इंदौर और उज्जैन के एक दिवसीय दौरे पर पहुंचे थे। वह उज्जैन में भगवान महाकालेश्वर की शाही सवारी (पारम्परिक शोभायात्रा) में भी शामिल हुए।