बाइडेन मानवाधिकार कार्यकर्ता वनिता गुप्ता को बना सकते हैं एसोसिएट अटॉर्नी जनरल

न्यूयॉर्क, । अमेरिका के निर्वाचित राष्ट्रपति जो बाइडेन मानवाधिकार कार्यकर्ता वनिता गुप्ता को एसोसिएट अटॉर्नी जनरल का पद देने की योजना बना रहे हैं। कई मीडिया रिपोटरें के अनुसार, यह जानकारी उनके करीबी सूत्र के हवाले से मिली है।

कई रिपोर्ट, जो बुधवार को सामने आई उसमें यह भी कहा गया है कि वह फेडरल अपील कोर्ट के न्यायाधीश के रूप में मेरिक गारलैंड का नाम अटॉर्नी जनरल के रूप में देंगे।

गुप्ता ने पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा के प्रशासन में न्याय विभाग में प्रमुख उप सहायक अटॉर्नी जनरल और नागरिक अधिकार प्रभाग के प्रमुख के रूप में कार्य किया था, तब बाइडन उपराष्ट्रपति थे।

वनिता गुप्ता सुर्खियों में तब आईं, जब उन्होंने लॉ स्कूल से सीधे 38 लोगों की रिहाई में जीत हासिल की थी। इनमें से अधिकांश अफ्रीकी अमेरिकी थे, उन्हें टेक्सस के एक कस्बे में ड्रग के आरोपों में गलत तरीके से दोषी ठहराया गया था। इसके साथ ही गुप्ता ने उन्हें मुआवजे के तौर पर 60 लाख डॉलर भी दिलाए थे।

वह तब एनएएसीपी (नेशनल एसोसिएशन ऑफ कलर्ड पीपल) के लीगल डिफेंस फंड के लिए काम कर रही थीं।

गुप्ता ने शीर्ष मानवाधिकार संगठन, अमेरिकन सिविल लिबर्टीज यूनियन के लिए एक स्टाफ वकील के रूप में काम किया, जहां उन्होंने अप्रवासियों और सामूहिक गिरफ्तारियों के शिकार लोगों के कई मामले उठाए।

उनकी जीत में एक ऐतिहासिक मामला भी शामिल था, जिसमें निजी तौर पर आव्रजन जेलों में बंद बच्चों के लिए सेटलमेंट किया गया था।

वह अब लीडरशिप कॉन्फ्रेंस ऑन सिविल एंड ह्यूमन राइट्स की अध्यक्ष और सीईओ हैं। यह संगठन 200 से अधिक मानवाधिकार संगठनों का गठबंधन है।

गुप्ता के एसोसिएट अटॉर्नी जनरल के रूप में पुष्टि सीनेट द्वारा की जाएगी।

वह बाइडेन और चयनित उपराष्ट्रपति कमला हैरिस द्वारा महत्वपूर्ण पदों पर नियुक्त भारतीय अमेरिकियों की सीरीज में हालिया सदस्य हैं।

इनमें नीरा टंडन भी शामिल हैं, जो ऑफिस ऑफ मैनेजमेंट एंड बजट की निदेशक होंगी, वहीं विवेक मूर्ति, सर्जन जनरल, दोनों को उनके पदों को लेकर सीनेट द्वारा पुष्टि की जाएगी। वेदांत पटेल, उनके सहायक प्रेस सचिव, विनय रेड्डी, भाषण लेखन के निदेशक और गौतम राघवन, राष्ट्रपति कार्मिक कार्यालय के उप निदेशक बनेंगे।

अन्य लोगों में कोविड-19 टास्क फोर्स के अतुल गावंडे और सेलीन गाउंडर हैं, प्रथम महिला बनने वाली जिल बाइडन के लिए पॉलीसी निर्देशक माला अडिगा होंगी और मजू वर्गीस उनके उद्घाटन, शपथ ग्रहण समारोह और इससे जुड़े कार्यक्रमों के कार्यकारी निदेशक होंगे।

पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा ने अपने अंतिम वर्ष में कार्यालय में सुप्रीम कोर्ट के न्यायाधीश के रूप में एक उदारवादी माने जाने वाले गारलैंड को नामित किया था, लेकिन रिपब्लिकन ने नियुक्ति को अवरुद्ध कर दिया था।

कई अफ्रीकी अमेरिकी नेताओं ने बाइडन पर अपने नागरिक अधिकारों की रक्षा और नस्लवाद से निपटने के प्रयास फिर से शुरू करने की आवश्यकता के मद्देनजर अपने समुदाय के किसी व्यक्ति को अटॉर्नी जनरल के रूप में नियुक्त करने के लिए दबाव डाला था।