चीन की कायराना हरकतों के विरोध में भीम आर्मी ने सौंपा ज्ञापन

उज्जैन। चीन ने गलवान घाटी में जो कायराना हरकत की है, उसकी भीम आर्मी-भारत एकता मिशन ने कड़ी निंदा की है। भीम आर्मी-भारत एकता मिशन, उज्जैन के सदस्यों ने सरकार से माँग की है कि चीन के साथ किसी भी प्रकार का व्यापारिक व्यवहार बंद किया जाए। हाल ही में चीन द्वारा जो हरकत की गई, वह बहुत निंदनीय है।
भीम आर्मी-भारत एकता मिशन, उज्जैन के जिलाध्यक्ष रवि गुजराती ने बताया कि भीम आर्मी ने चीन की हरकतों के विरोध में महामहिम राष्ट्रपति के नाम कलेक्टर को ज्ञापन सौंपा। ज्ञापन में माँग की गई है कि भारतीय जवानों की शहादत बेकार नहीं जाना चाहिए। हमें हमारी जमीन वापस चाहिए। मोदीजी जनता को बरगलाना बंद करें। देश की रक्षा के लिए अगर मौका मिलेगा तो भारतीय सेना के साथ भीम आर्मी भी कंधे से कंधा मिलाकर दुश्मन की खदेड़ने का काम करेगी। हमारी माँग है कि चीन सैनिकों को देश की सीमा से बाहर खदेड़ा जाए तथा गलवान घाटी वाले इलाके को अपने कब्जे में ले। सेना में विशेष भर्ती की जाए, ताकि भीम आर्मी व भारत के युवाओं को सीमा पर जाकर देशसेवा का मौका मिल सके। हमारा देश संकटकाल में सरकार तुरंत सैनिकों की भर्ती शुरू करें। भीम आर्मी अपने एक लाख जवानों को सेना में शामिल होने के लिए भेजेगी। हमारे लोग सीमा पर सबसे आगे खड़े होंगे। इतिहास में सबसे ज्यादा देशभक्ति साबित हुई एवं चमार रेजिमेंट तुरंत बहाल की जाए। ज्ञापन का वाचन जिलाध्यक्ष रवि गुजराती ने किया। इस दौरान प्रदेश प्रभारी सुनील अस्तेय, प्रदेश उपाध्यक्ष दुलेसिंह सूर्यवंशी, सलमान शाह, सोनू खान, सचिव गोसर, राम सोलंकी, हिमांशु पंडित, जीवन सोलंकी, राहुल जाधव, रोहित मालवीय, रानी खान आदि उपस्थित थे।