सिंध के एक जिले में 13 महीनों में 125 महिलाओं ने की खुदकुशी

इस्लामाबाद,  । पाकिस्तान के सिंध प्रांत में स्थित थारपारकर जिले में गरीबी और सामाजिक असमानता के कारण विगत 13 महीनों में कम से कम 125 महिलाओं ने आत्महत्या कर ली। मीडिया रिपोर्ट से रविवार को इस आशय की जानकारी मिली।

जियो न्यूज की रिपोर्ट में कहा गया है कि मिथी में आयोजित एक कार्यशाला के दौरान यह आंकड़ा सामने आया। इस कार्यशाला में मनोवैज्ञानिकों, सिविल सोयायटी और गैर-सरकारी संगठनों ने उन कारणों एवं समस्याओं पर विचार-विमर्श किया जिसके कारण महिलाएं आत्महत्या जैसे कदम उठाने को विवश होती हैं।

कार्यशाला के एक प्रतिभागी ने खुलासा किया कि पिछले एक साल में 100 से अधिक महिलाओं ने अपनी जान ले ली।

कार्यशाला में इस विषय पर भी चर्चा की गई कि कैसे एक तरफ थारपारकर के लोग, खासकर महिलाएं और बच्चे विभिन्न बीमारियों से अपनी जान गंवा रहे हैं, वहीं दूसरी ओर गरीबी और रीति-रिवाज भी युवा महिलाओं को अपना जीवन समाप्त करने के लिए मजबूर कर रहे हैं।

थारपारकर सिंध प्रांत का सबसे बड़ा जिला है और यह पाकिस्तान में सबसे बड़ी हिंदू आबादी वाला इलाका है। लेकिन प्रांत के सभी जिलों के मुकाबले यहां का ह्यूमन डेवेलपमेंट इंडेक्स सबसे कम है। संयुक्त राष्ट्र के आंकड़ों के अनुसार, इस जिले की 87 प्रतिशत आबादी गरीबी में रहती है।