मप्र में कोरोना वायरस संक्रमण के बाद तीसरी मौत की पुष्टि, मरीज ने तीन दिन पहले तोड़ा था दम

इंदौर,  मध्यप्रदेश में स्वास्थ्य विभाग ने सोमवार को कहा कि पड़ोसी उज्जैन शहर में तीन दिन पहले जिस 38 वर्षीय पुरुष की मौत हुई, वह कोरोना वायरस से संक्रमित पाया गया है। इसके साथ ही, राज्य में कोरोना वायरस संक्रमित मरीजों की मौत की तादाद बढ़कर तीन पर पहुंच गयी है।

उज्जैन की मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. अनुसुइया गवली ने “पीटीआई-भाषा” को बताया, “हमें इंदौर के शासकीय महात्मा गांधी स्मृति चिकित्सा महाविद्यालय की एक प्रयोगशाला से सोमवार सुबह मिली जांच रिपोर्ट से पता चला है कि उज्जैन का 38 वर्षीय पुरुष कोरोना वायरस से संक्रमित था। इस व्यक्ति की 27 मार्च की रात मौत हो चुकी है

उन्होंने बताया कि इस मरीज को उज्जैन के माधव नगर चिकित्सालय में 27 मार्च को ही रात आठ बजे भर्ती किया गया था। लेकिन गंभीर हालत के चलते उसकी जान नहीं बचायी जा सकी थी। इलाज के एक घंटे के भीतर ही उसकी मौत हो गयी थी।

गवली ने बताया, “डॉक्टरों के मुताबिक, मरीज सीने में दर्द और घबराहट की शिकायत के साथ अस्पताल में भर्ती हुआ था। उसे उच्च रक्तचाप की भी समस्या थी। पहली नजर में वह हृदय रोगी नजर आ रहा था।”

इस बीच, जनसंपर्क विभाग की जारी विज्ञप्ति में बताया गया कि मृतक उज्जैन की अंबर कॉलोनी का रहने वाला था। कोरोना वायरस संक्रमण के लक्षण पाये जाने पर उसके रक्त और स्वाब के नमूने लेकर प्रयोगशाला जांच के लिये भेजे गये थे।

विज्ञप्ति में बताया गया, “बीमार पड़ने के पांच दिन पहले मरीज मध्यप्रदेश के नीमच गया था। वहां एक पार्टी में वह राजस्थान के कुछ लोगों के संपर्क में आया था। उज्जैन लौटते ही उसे सर्दी, खांसी और बुखार हो गया था।”

विज्ञप्ति में यह भी बताया गया कि प्रशासन के निर्देश पर उज्जैन की अम्बर कॉलोनी में लोगों की आवा-जाही पर पूरी तरह रोक लगा दी गयी है। स्वास्थ्य विभाग ने वहां कोरोना वायरस संक्रमण को लेकर सर्वेक्षण शुरू कर दिया है।

इससे पहले, मध्यप्रदेश में आठ और मरीजों में कोरोना वायरस संक्रमण की सोमवार सुबह पुष्टि की गयी। इसके साथ ही, सूबे में इस संक्रमण की जद में आये लोगों की संख्या बढ़कर 47 हो गयी है।

राज्य में अब तक मिली जांच रिपोर्टों के मुताबिक कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों में इंदौर के 27, जबलपुर के आठ, उज्जैन के पांच, भोपाल के तीन और शिवपुरी एवं ग्वालियर के दो-दो मरीज शामिल हैं।

इस महामारी से दम तोड़ने वालों में राज्य के दो अन्य मरीजों में इंदौर का एक निवासी और उज्जैन की एक महिला शामिल हैं। ये दोनों मरीज 65-65 साल के थे और उन्होंने इंदौर के एक अस्पताल में इलाज के दौरान दम तोड़ा।