मध्य प्रदेश को वर्ष 2022 तक भ्रष्टाचार एवं गरीबी से करेंगे मुक्त : मुख्यमंत्री शिवराज सिंह

भोपाल, मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने आज कहा कि वर्ष 2022 तक प्रदेश को भ्रष्टाचार एवं गरीबी से मुक्त बनाएंगे। इसके लिए राज्य सरकार ने संकल्प लिया है। मोतीलाल नेहरू स्टेडियम में 71वें स्वाधीनता दिवस के अवसर पर प्रदेशवासियों को संबोधित करते हुए चौहान ने कहा, ‘‘प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश के नागरिकों से आह्वान किया है कि वह भारत को भ्रष्टाचार, गरीबी, आतंकवाद एवं जातिवाद से मुक्त बनाने का संकल्प लें। आइये हम सब प्रधानमंत्री जी के संकल्पों को सफल बनाने के लिए अपने आप को समर्पित करें।’’ उन्होंने कहा, ‘‘मध्यप्रदेश को वर्ष 2022 तक गरीबी एवं भ्रष्टाचार से मुक्त कर दिया जाएगा।’’ मुख्यमंत्री ने कहा, ‘‘जो भी अधिकारी अपने काम में भ्रष्टाचार, बेइमानी एवं लापरवाही करेगा, उसे नौकरी से बाहर कर दिया जाएगा। हम भ्रष्टाचार मुक्त मध्यप्रदेश का संकल्प पूरा करके दिखाएंगे।’’ उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश में वर्ष 2022 तक हर गरीब अपने पक्के मकान में रहेगा।

चौहान ने कहा, ‘‘राज्य सरकार ने अगले साल तक शहरी क्षेत्रों में पांच लाख और ग्रामीण क्षेत्रों में 15 लाख आवास का जो लक्ष्य रखा है, उसे हासिल कर लिया जाएगा और वर्ष 2022 तक प्रदेश में हर गरीब का अपना पक्का मकान होगा।’’ चौहान ने कहा कि इसके अलावा, मध्यप्रदेश सरकार हर तरह के आतंक का अंत करेगी। उन्होंने कहा कि हमने सिमी नेटवर्क को पूरी तरह से नष्ट कर दिया है। चंबल में डकैतों को समाप्त कर दिया हैं। मध्यप्रदेश में अब कोई भी डकैत गिरोह नहीं है। नक्सलियों को भी खत्म कर दिया गया है।

पर्यावरण को बचाने की आवश्यकता का जिक्र करते हुए चौहान ने कहा कि इसके लिए प्रदेश सरकार ने मध्यप्रदेश की जीवनदायिनी नदी नर्मदा के संवर्धन एवं संरक्षण के लिए इस नदी के दोनों तटों पर जनभागीदारी से 148 दिनों तक ‘नमामि देवी नर्मदे- सेवा यात्रा’ निकाली, जो अमरकंटक से पिछले साल 11 दिसंबर को शुरू हुई थी। विभिन्न जगहों से मिली रिपॉर्टों के अनुसार जबलपुर, इंदौर एवं ग्वालियर सहित विभिन्न जगहों पर स्वाधीनता दिवस परंपारिक तरीके से हर्ष एवं उल्लास के साथ मनाया गया।