ताइवान पर ट्रंप का ‘यूटर्न’ दिखाता है कि वह सीख रहे हैं: चीनी मीडिया

चीन की सरकारी मीडिया ने आज कहा कि ‘एक चीन’ की नीति पर अपने पहले के बयान को वापस लेने का अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप का फैसला यह संकेत है कि वह अपने नये काम के बारे में ‘सीख’ रहे हैं और वह चीन-अमेरिका के संबंधों के बीच ‘‘रकावट’’ नहीं बनना चाहते हैं।

चीन के सरकारी समाचार पत्र ग्लोबल टाइम्स ने चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग से पहली बार टेलीफोन पर हुई बातचीत के दौरान ‘एक चीन’ नीति का अनुसरण करने की ट्रंप की प्रतिबद्धता की प्रशंसा की। अमेरिका पहले इस नीति का अनुसरण करता रहा है जिसके तहत चीन, ताइवान को अपना ही हिस्सा बताता है। अखबार ने कहा कि ट्रंप ने चीन के बारे में अपने पहले के रूख को बदल लिया है।

अखबार ने एक संपादकीय में कहा, ‘‘पद संभालने के बाद ट्रंप और उनकी टीम ने चीन के बारे में अपना रूख बदल लिया है। ट्रंप ने चीन के मूल हितों को चुनौती देना बंद कर दिया है और इसके बजाय बीजिंग के प्रति सम्मान दिखाया है।’’ गौरतलब है कि पद संभालने से पहले ट्रंप ने कहा था कि वह ‘एक चीन की नीति का अनुसरण करने के लिए बाध्य’ नहीं है और उन्होंने ताइवान के राष्ट्रपति से सीधा फोन पर बात कर प्रोटोकॉल तोड़ा था।

चीन का मानना है कि ताइवान उसका एक पृथकतावादी प्रांत है और उसे अपने अधिकार क्षेत्र में वापस लाया जाना चाहिये और अगर इसके लिए बलप्रयोग जररी हो तो वह भी करना चाहिये।