जून में इस्राइल दौरे पर जा सकते हैं मोदी

यरूश्लम,  भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की बहुप्रतीक्षित इस्राइल यात्रा संभवत: इस साल के आखिर तक हो सकती है। यह किसी भी भारतीय प्रधानमंत्री द्वारा यहूदी देश की पहली यात्रा होगी।

इस्राइल में भारत के राजदूत पवन कपूर ने स्थानीय समाचार पोर्टल ‘वायनेट’ को यात्रा के बारे में जानकारी दी और बताया कि दोनों देशों के बीच राजनयिक संबंधों के 25 साल पूरे हो गए हैं।

कपूर ने इस्राइल के साथ रक्षा सहयोग बढ़ाने के उन प्रयासों को भी रेखांकित किया जिसमें ‘मेक इन इंडिया’ अभियान के तहत विनिर्माण इकाइयों की स्थापना करने पर विचार किया जा रहा है।

इस बात की जानकारी रखने वाले अन्य सूत्रों ने पीटीआई भाषा को बताया कि दोनों पक्षों ने तारीख अभी तय नहीं की है लेकिन ‘‘ इसके :यात्रा के: जून-जुलाई 2017 में होने की संभावना है। ’’ भारत और इस्राइल के बीच वर्ष 1992 से शुरू हुए राजनयिक संबंधों में पिछले 25 सालों में लगातार प्रगति हुई है। हालांकि इस दौरान नई दिल्ली से कोई उच्च स्तर का पदाधिकारी इस्राइल की यात्रा पर नहीं आया।

अक्तूबर 2015 में प्रणब मुखर्जी की इस्राइल यात्रा के बाद ऐसा प्रतीत होता है कि भाजपा के नेतृत्व वाली सरकार ने इस्राइल के साथ संबंधों को अधिक प्राथमिकता दी है । यह किसी भारतीय प्रमुख द्वारा यहूदी देश की पहली यात्रा थी।

इसके बाद प्रणब मुखर्जी के आमंत्रण पर इस्राइल के राष्ट्रपति रूवेन रिवलिन ने पिछले साल भारत का दौरा किया था। करीब 20 वर्ष के अंतराल के बाद किसी इस्राइल प्रमुख की यह दूसरी भारत यात्रा थी।