चीन ने भारत के हाई-टेक हुनर को नजरअंदाज करने की गलती की: मीडिया

बीजिंग,  चीन के सरकारी मीडिया ने आज कहा कि चीन ने विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में भारत के विशेषज्ञों को ‘‘नजरअंदाज करने की गलती’’ की है। चीनी मीडिया का कहना है कि चीन को अपनी नवोन्मेषी योग्यता को बरकरार रखने के लिए भारत के हाई-टेक हुनर को आकषिर्त करना चाहिए था।

सरकारी अखबार ग्लोबल टाईम्स ने एक लेख में कहा, ‘‘चीन ने भारतीय हुनर को नजरअंदाज करने और अमेरिका एवं यूरोप से आने वाले हुनर को ज्यादा अहमियत देने की गलती की है।’’ सत्ताधारी कम्यूनिस्ट पार्टी ऑफ चीन के एक समूह द्वारा संचालित इस अखबार ने कहा, ‘‘चीन ने विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में भारत के हुनरमंद लोगों को यहां काम करने के लिए आकषिर्त करने की दिशा में शायद ज्यादा मेहनत नहीं की है।’’ यह अखबार हाल के कुछ महीनों में लगभग नियमित आधार पर भारत की आलोचना वाले लेख छापता रहा है। हालांकि उसका यह दुर्लभ लेख सकारात्मक रूख रखने वाला है।

इसमें कहा गया कि ‘‘पिछले कुछ वषरें में चीन ने तकनीकी नौकरियों में अभूतपूर्व उछाल देखा है क्योंकि देश विदेशी अनुसंधान एवं विकास केंद्रांे के लिए एक आकषर्क स्थान बन गया है।’’ लेख में कहा गया, ‘‘हालांकि अब कुछ हाई-टेक कंपनियां अपना ध्यान चीन से हटाकर भारत की ओर लगा रही हैं। इसके पीछे की वजह भारत में श्रमबल की लागत तुलनात्मक रूप से कम होना है। अपनी नवोन्मेषी योग्यता को बरकरार रखने के लिए भारत से हाई-टेक हुनरमंद लोगों को आकषिर्त करना चीन के समक्ष मौजूद विकल्पों में से एक हो सकता है।’’