कोहली ने रिकार्ड प्रदर्शन का श्रेय कप्तानी और फिटनेस को दिया

हैदराबाद, अपने शानदार प्रदर्शन का श्रेय कप्तानी को देते हुए स्टार बल्लेबाज विराट कोहली ने कहा कि अतिरिक्त जिम्मेदारी के कारण उनकी बल्लेबाजी में आत्ममुग्धता के लिए कोई जगह नहीं बची और इसके कारण ही वह लगातार चार टेस्ट श्रृंखला में दोहरा शतक जड़ने का रिकार्ड बना पाए।

बांग्लादेश के खिलाफ यहां एकमात्र टेस्ट के दूसरे दिन कल 204 रन बनाने वाले कोहली ने कहा कि कप्तानी ने उन्हें टेस्ट मैचों में लंबी पारी खेलने में मदद की।

बड़ी पारी खेलने की भूख के बारे में पूछने पर कोहली ने ‘बीसीसीआई.टीवी’ से कहा, ‘‘मुझे नहीं पता, मुझे लगता है कि कप्तानी के कारण आप सामान्य बल्लेबाजी की तुलना में अधिक प्रयास करते हो। मुझे लगता है कि जब आप कप्तान बनते हो तो आत्मुग्धता के लिए जगह नहीं बचती। इसलिए इसका मेरे लंबी पारियां खेलने से संबंध है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘मैं हमेशा लंबी पारियां खेलना चाहता था और मेरे शुरूआती सात या आठ शतक 120 रन से अधिक की पारी भी नहीं थे। इसके बाद मैंने लंबी पारियां खेलने का प्रयास किया और अपनी उत्सुकता को नियंत्रित किया और किसी भी समय आत्ममुग्धता से बचने की कोशिश की।’’ अपनी इस पारी के दौरान कोहली टेस्ट के इतिहास में लगातार चार श्रृंखला में दोहरे शतक जड़ने वाले दुनिया के पहले बल्लेबाज बने। उन्होंने भारत के राहुल द्रविड़ और आस्ट्रेलिया के महान सर डान ब्रैडमैन को पीछे छोड़ा जिन्होंने लगातार तीन श्रृंखला में दोहरे शतक जड़े थे।