आतंकवाद से निपटने में पाकिस्तान के प्रयासों को समर्थन देने की जरूरत: अमेरिका

वाशिंगटन, पाकिस्तानी सेना की आतंकवादियों के ठिकानों पर कार्रवाई की रिपोटरें के बीच अमेरिका ने कहा है कि हिंसक चरमपंथ से निपटने तथा एक और अधिक स्थिर समाज बनाने के पाकिस्तान के प्रयासों को सहयोग देना उसके दीर्घकालिक हित में है।

पाकिस्तानी सेना द्वारा अफगानिस्तान एवं पाकिस्तान की सीमा के पास संदिग्ध आतंकी ठिकानों पर हमला किए जाने की खबरों पर विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कल ‘पीटीआई भाषा’ से कहा, ‘‘हमारा मानना है कि अमेरिका के दीर्घकालिक हित इस बात में हैं कि हिंसक चरमपंथ से निपटने और एक स्थिर, सहिष्णु एवं लोकतांत्रिक समाज बनाने के पाकिस्तान के प्रयासों को सहयोग दिया जाए।’’ अधिकारी ने कहा, ‘‘हमने खबरें देखी हैं। हम आपको पाकिस्तान सरकार से बात करने के लिए कहेंगे। पाकिस्तान ने आतंकियों और हिंसक चरमपंथियों के कारण भारी कष्ट उठाए हंै।’’ प्रवक्ता ने कहा कि अमेरिका लंबे समय से पाकिस्तान की जनता और आतंकवाद से लड़ने वाले सभी लोगों के साथ एकजुटता से खड़ा रहा है।

उन्होंने कहा, ‘‘आतंकवाद से निपटने, आतंकियों के सुरक्षित ठिकानों पर कार्रवाई करने और वषरें से आतंकियों द्वारा सुरक्षित ठिकानों के तौर पर इस्तेमाल किए जा रहे पाकिस्तान के विभिन्न हिस्सों पर सरकारी नियंत्रण बहाल करने के लिए पाकिस्तानी सेना और जनता द्वारा दिए गए बलिदानों को लेकर हम उनके आभारी हैं।’’ पाकिस्तान ने दक्षिणी सिंध प्रांत में भीड़भाड़ वाली एक सूफी दरगाह पर इस्लामिक स्टेट के आत्मघाती विस्फोट के बाद बदले की कार्रवाई करते हुये 100 से ज्यादा संदिग्ध आतंकवादियों को मार गिराने का कल दावा किया था। इस्लामिक स्टेट के हमले में 80 से ज्यादा लोग मारे गये थे।