अर्थशास्त्रियों को आशंका, अमेरिका में आ सकती है 1946 के बाद की सबसे बड़ी मंदी

वाशिंगटन,  व्यापार अर्थशास्त्रियों ने आशंका जताई है कि अमेरिका को इस साल, पिछले सात दशकों से अधिक समय में सबसे भयानक मंदी का सामना करना पड़ेगा।

उन्होंने यह आशंका भी जताई कि कोरोना वायरस महामारी लौटकर आ सकती है, जो अर्थव्यवस्था के लिए एक बड़ा संकट लाएगी।

नेशनल एसोसिएशन फॉर बिजनेस इकोनॉमिक्स (एनएबीई) ने इस संबंध में किए गए एक सर्वेक्षण के नतीजे सोमवार को जारी किए। इसमें अनुमान जताया गया है कि कोरोना वायरस महामारी के चलते अमेरिका में सकल घरेलू उत्पाद 2020 में 5.9 प्रतिशत घट जाएगा।

यह गिरावट 1946 के बाद सबसे अधिक होगी, जब द्वितीय विश्व युद्ध के चलते अमेरिका की जीडीपी में 11.6% की कमी हुई थी।

एनएबीई के 48 विशेषज्ञों के दल ने अनुमान जताया है कि जनवरी-मार्च तिमाही में अमेरिका की जीडीपी पांच प्रतिशत घट जाएगी, जबकि इसके बाद अप्रैल-जून तिमाही में ये गिरावट रिकॉर्ड 33.5 प्रतिशत की होगी।

एनएबीई के दल का हालांकि अनुमान है कि 2020 की दूसरी छमाही में वृद्धि दर बेहतर रहेगी और इसके जुलाई-सितंबर तिमाही में 9.1 प्रतिशत और अक्टूबर-दिसंबर तिमाही में 6.8 प्रतिशत रहने का अनुमान है।

इन अर्थशास्त्रियों का अनुमान है कि 2021 में अमेरिकी की वृद्धि दर 3.6 प्रतिशत रहेगी।