अमेरिकी मिसाइल इंटरसेप्टर परीक्षण चीन के लिए खतरा : विशेषज्ञ

बीजिंग,  अमेरिकी मिसाइल इंटरसेप्टर के सफल परीक्षण ने चीन में चिंता के हालात पैदा कर दिए हैं क्योंकि विशेषज्ञों का कहना है कि इससे अन्य परमाणु शक्तियों के साथ रणनीतिक संतुलन बिगड़ जाएगा। साथ ही उनका यह भी कहना है कि यह परीक्षण परमाणु संपन्न उत्तर कोरिया के खिलाफ सैन्य कार्रवाई के लिए तैयारियों का संकेत भी देता है।

अमेरिका ने अपने ही उन्नत लंबी दूरी के इंटरसेप्टर आयुध का उपयोग कर एक छद्म अंतरद्वीपीय बैलिस्टिक मिसाइल का सफल परीक्षण किया है।

पीएलए रॉकेट फोर्स से मिसाइल अध्ययन के एक वरिष्ठ सैन्य रणनीतिकार यांग चेंगजुन ने ग्लोबल टाइम्स से कहा ‘‘यह परीक्षण वास्तविक लड़ाकू उपकरण जैसा ही है क्योंकि इसमें लक्ष्य का पता लगाने तथा उस पर केंद्रित होने के लिए एक्स बैंड रडार का उपयोग किया गया। लक्ष्य भी एक आईसीबीएम ही था। पूर्व में अमेरिका मध्यम दूरी की मिसाइल का उपयोग करता था और रक्षा प्रणाली के पास परीक्षण से पहले लक्ष्य के बारे में आंकड़े और जानकारी होती थी।’’ अधिकारियों ने बताया कि अमेरिकी इंटरसेप्टर मिसाइल ने 27,040 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से दूरी तय की और प्रशांत महासागर के उपर अपने लक्ष्य को भेदा।

इस परीक्षण के एक दिन पहले ही उत्तर कोरिया ने इस साल अपना नौवां बैलिस्टिक मिसाइल परीक्षण किया जिसने जापान सागर में गिरने से पहले 450 किमी की दूरी तय की।

पेंटागन के प्रवक्ता एवं नौसेना कप्तान जेफ डेविस ने कहा कि परीक्षण की योजना कुछ समय पहले से बनाई जा रही थी और इसका समय उत्तर कोरिया को जवाब देने के लिए तय नहीं किया गया था। उन्होंने एक बयान में बताया ‘‘व्यापक नजरिये से कहा जाए तो हमारे पास यह क्षमता होने का एक कारण उत्तर कोरिया भी है।’’ यांग का कहना है ‘‘चीन के पास भी अपनी मिसाइल रक्षा प्रणाली है जिसकी प्रौद्योगिकी अमेरिका से मिलती जुलती है लेकिन हमारी प्रणाली अमेरिकी प्रणाली की तरह समग्र नहीं है।’’