nirmal rani

सडक़ों पर बिकता ‘ज़हर’:शासन-प्रशासन मौन?

आजकल हमारे देश के प्रमुख टीवी चैनल मोदी,योगी,तीन तलाक,गाय,गंगा,मंदिर-मस्जिद,अज़ान,जैसे विषयों पर चर्चा करने में इतना व्यस्त हैं कि उन्हें शायद आम नागरिकों को [...]

पैमान-ए-काबिलियत: जनप्रतिनिधि बनाम लोक सेवा अधिकारी

कहने को तो हमारे देश का विशाल लोकतंत्र संसदीय व्यवस्था,न्यायपालिका तथा कार्यपालिका जैसे स्तंभों पर टिका हुआ है। हालांकि चौथा स्वयंभू स्तंभ मीडिया [...]