जायरीनों के लिये दरगाह में जन्नती दरवाजा खुला

अजमेर, राजस्थान में अजमेर स्थित ख्वाजा मोईनुद्दीन हसन चिश्ती की दरगाह में आज तड़के जन्नती दरवाजा खोल दिया गया।जन्नती दरवाजे के रास्ते आस्ताना शरीफ पहुंच कर जियारत करने वालों में होड़ मच गयी। चांद की 29 तारीख देखते हुए परम्परा के अनुसार तड़के 4.30 बजे जन्नती दरवाजा आम जायरीनों के लिये खोल दिया गया। देर शाम रजब महीने का चांद दिखाई दे गया तो उर्स की विधिवत शुरूआत के साथ ही जन्नती दरवाजा छह रजब तक आम लोगों के लिये खुला रहेगा। चांद नजर नहीं आता है तो जन्नती दरवाजे को बंद कर दिया जायेगा, फिर इसे अगले दिन पुनः खोला जायेगा। यह कल से फिर छह रजब तक खुला रहेगा। यह छठी को कुल की रस्म के दिन तक खुला रहेगा ।चांद की शहादत के लिये ख्वाजा साहब की दरगाह कमेटी के अधीन रात में हिलाल कमेटी की बैठक होगी जिसमें चांद दिखाई देने पर विधिवत ऐलान किया जायेगा। इसी के साथ 808वें सालाना उर्स की धार्मिक रस्मों के साथ विधिवत शुरुआत हो जायेगी। चांद की सूचना कहीं से भी नहीं मिली तो उर्स का छः दिवसीय आगाज कल रात से होगा।उर्स को देखते हुए पुलिस अधीक्षक कुंवर राष्ट्रदीपसिंह ने सुबह से ही मेला क्षेत्र खासकर दरगाह से महावीर सर्किल , कायड़ विश्राम स्थली में पुलिस बल तैनात कर दिया है। उर्स के चलते अजमेर तारागढ़ एवं सरवाड़ दरगाह में भी चहल पहल बढ़ गई है