मप्र में संजीवनी क्लीनिक शुरू, होगा मुफ्त इलाज

भोपाल, | दिल्ली के मोहल्ला क्लीनिक और तेलंगाना के बस्ती दवाखाना की तर्ज पर मध्यप्रदेश में संजीवनी क्लीनिक की शुरुआत हुई है।

इन क्लीनिकों में मरीजों को मुफ्त जांच और मुफ्त दवाओं की सुविधा तो मिलेगी ही, मरीज की बीमारी से लेकर अन्य ब्यौरे भी दर्ज रहेंगे। राज्य में स्वास्थ्य सेवाएं हमेशा से सरकारों के लिए चुनौती रही है। आमजन को प्राथमिक स्वास्थ्य सुविधाएं आसानी से मिल सकें, इसके लिए वर्तमान सरकार द्वारा दूर-दराज के इलाकों में रहने वालों, भीड़ भरी बस्तियों और झुग्गी बस्तियों तक स्वास्थ्य सेवा पहुंचाने के लिए संजीवनी क्लीनिक शुरू किए जा रहे हैं।

 

पहले चरण में इंदौर, भोपाल, ग्वालियर और जबलपुर में शनिवार को इसकी विधिवत शुरुआत हो चुकी है। राज्य के प्रमुख कस्बों और शहरों में कुल 208 संजीवनी क्लीनिक खोलने की योजना है। मार्च, 2020 तक 88 क्लीनिक चालू हो जाएंगे। इसके लिए जिला स्तर पर स्वास्थ्य विभाग, नगर निगम के साथ विश फाउंडेशन एक समझौते पर हस्ताक्षर करेगा, जिसके बाद निगम के सामुदायिक भवनों में क्लीनिक शुरू किए जाएंगे।

बताया गया है कि इन क्लीनिक में चिकित्सक, जांच मशीन और दवाएं सरकारी स्तर पर उपलब्ध कराई जाएंगी, वहीं तकनीकी मदद और प्रशिक्षण विश फाउंडेशन देगा। इसके लिए ऐसा सॉफ्टवेयर विकसित किया गया, जिससे पंजीकरण, परामर्श, स्कैनिंग और रेफरल जैसी प्रक्रियाओं को पूरा करने में काफी मदद मिलेगी।

विश फाउंडेशन आंकड़ों को जमा करेगा, सप्लाई चेन, उपकरण और क्लीनिक में इस्तेमाल आने वाली चीजों की आपूर्ति को बनाए रखेगा। इसके अलावा डॉक्टरों व तकनीशियनों को आईटी से जुड़ी खोजों के बारे में प्रशिक्षण देगा।