मध्य प्रदेश में 31 मिलावटखोरों पर रासुका के तहत कार्रवाई

भोपाल,  मध्य प्रदेश में मिलावटी खाद्य पदार्थ निर्माताओं और विक्रेताओं के खिलाफ चलाये जा रहे अभियान में पिछले ढाई महीने में 31 मिलावटखोरों पर राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (रासुका) के तहत कार्रवाई की गई है।

मध्य प्रदेश जनसंपर्क के एक उप संचालक ने शनिवार को बताया कि प्रदेश में गत 19 जुलाई से मिलावटी खाद्य पदार्थ निर्माताओं और विक्रेताओं के खिलाफ चलाये जा रहे ‘शुद्ध के लिये युद्ध अभियान’ में अब तक 31 कारोबारियों के खिलाफ रासुका के तहत कार्रवाई की गई है।

उन्होंने बताया कि इसके अलावा, इस अभियान के तहत 87 मामलों में प्राथमिकी भी दर्ज की गई है।

अधिकारी ने बताया कि यह अभियान पूरे प्रदेश में निरन्तर जारी है।

उन्होंने बताया कि अभियान के अन्तर्गत अब तक दूध, दुग्ध उत्पादों और अन्य खाद्य पदार्थों तथा पान मसाला सहित कुल 6,463 नमूने जांच के लिये एकत्रित किये गये हैं। राज्य खाद्य परीक्षण प्रयोगशाला ने 1,484 नमूनों के जांच प्रतिवेदन जारी किये हैं। इसमें से 491 नमूने अमानक, 112 नमूने मिथ्या छाप, 29 नमूने अपदृव्य, 27 नमूने असुरक्षित, 803 नमूने मानक स्तर और 22 नमूने प्रतिबंधित स्तर के घोषित किये गये हैं।

मालूम हो कि सिंथेटिक दूध और इससे बने उत्पादों का कारोबार करने वाले गिरोहों के खिलाफ 19 जुलाई से अभियान शुरू करने के कुछ दिन बाद ही मध्यप्रदेश सरकार ने फलों को घातक केमिकल से पकाये जाने वाले और उन्हें स्वादिष्ट बनाने के लिए उनमें मीठा पदार्थ डालने वाले मिलावटखोरों के खिलाफ भी सख्त कदम उठाए हैं।

इसके अलावा, राज्य सरकार ने साग-सब्जियों को ताजा एवं बढ़िया दिखाने के लिए उन पर स्वास्थ्य के लिए नुकसानदायक लेपों को लगाने वाले मिलावटखोरों के खिलाफ भी कड़े कदम उठाए हैं।

 

Leave a Reply