पाक सेना का विमान दुर्घटनाग्रस्त, दो पायलट समेत 17 लोगों की मौत

इस्लामाबाद,  पाकिस्तानी सेना का एक विमान प्रशिक्षण उड़ान के दौरान छावनी शहर रावलपिंडी के आवासीय इलाके में सोमवार देर रात दुर्घटनाग्रस्त हो गया। इस दुर्घटना में दो पायलट एवं तीन सैन्यकर्मियों समेत कम से कम 17 लोगों की मौत हो गई और 12 अन्य घायल हो गए।

पाकिस्तानी सेना ने कहा कि यह विमान मोरा कालू गांव में दुर्घटनाग्रस्त हो गया जिसमें 12 आम नागरिकों की और चालक दल के पांच सदस्यों की मौत हो गई तथा पांच से छह घर तबाह हो गए।

सेना ने बताया कि दो पायलट समेत चालक दल के सभी पांच सदस्यों की मौत हो गई और 12 अन्य लोग घायल हो गए।

रावलपिंडी के उपायुक्त अली रंधावा ने मीडिया को बताया कि यह दुर्घटना सोमवार देर रात ढाई से पौने तीन बजे के बीच हुई, जब प्रशिक्षण उड़ान के दौरान एक छोटा सैन्य विमान रावलपिंडी में दुर्घटनाग्रस्त हो गया।

मृतकों एवं घायलों को रावलपिंडी के विभिन्न अस्पतालों में भर्ती कराया गया है जहां चिकित्सकों का कहना है कि ज्यादातर लोग बुरी तरह जल चुके हैं।

रेडियो पाकिस्तान ने दुर्घटना में 17 लोगों की मौत की खबर दी है।

अधिकारियों ने कहा कि दुर्घटना के कारणों का अब भी पता नहीं चल सका है और राहत एवं बचाव कार्य सुबह तक पूरा कर लिया गया।

विमान जिस गांव में दुर्घटनाग्रस्त हुआ है वह बाहरिया नगर के रिहायशी इलाके के पास स्थित है। हादसे के तुरंत बाद भीषण आग लग गई जिसने इलाके के कई घरों को अपनी चपेट में ले लिया।

कुछ स्थानीय लोगों ने जलते घरों की तस्वीरें सोशल मीडिया पर अपलोड की।

विमानन सुरक्षा मामले में पाकिस्तान का रिकॉर्ड बहुत अच्छा नहीं रहा है जहां पिछले कुछ सालों में विमानों एवं हेलीकॉप्टरों के दुर्घटनाग्रस्त होने की खबरें अक्सर सुनने को मिली हैं।

2016 में पाकिस्तान इंटरनेशनल एअरलाइन्स (पीआईए) का एक विमान एबटाबाद के पास दुर्घटनाग्रस्त हो कर जल गया था। इसमें लोकप्रिय पॉप गायक से इस्लामी उपदेशक बने जुनैद जमशेद, उनकी पत्नी और चित्राल के उपायुक्त ओसामा वराइच समेत 48 लोग सवार थे।

वहीं 2012 में भोज एअरलाइन का विमान बोइंग 737 लैंडिंग से ठीक पहले इस्लामाबाद के पास दुर्घटनाग्रस्त हो गया था जिसमें 121 यात्रियों समेत चालक दल के छह सदस्य सवार थे।

पाकिस्तानी सरजमीं पर हुआ सबसे बुरा विमान हादसा जुलाई 2010 का था जब एअरबस 321 यात्री विमान दुर्घटनाग्रस्त हुआ था। विमान में सवार सभी 152 लोग दुर्घटना में मारे गए थे।

इसके अलावा 1992 में पाकिस्तानी विमान एक और घातक हादसे का शिकार हुआ था जब एअरबस ए300 काठमांडू पहुंचने के रास्ते में दुर्घटनाग्रस्त हो गया। इस हादसे में 167 लोग मारे गए।