गांव की गलियों में क्रिकेट खेलकर विश्व कप तक पहुंचे शादाब

इस्लामाबाद,  कुछ साल पहले तक अपने गांव की गलियों में क्लब क्रिकेट खेलने वाले पाकिस्तान के लेग स्पिनर शादाब खान ने विश्व कप तक का सफर तय किया जिसके पीछे उनका कड़ा अभ्यास और अतुलनीय प्रतिबद्धता है ।

टी20 गेंदबाजी रैंकिंग में तीसरे स्थान पर काबिज शादाब पर नजरें पाकिस्तान के प्रधानमंत्री और 1992 विश्व कप विजेता कप्तान इमरान खान की पड़ी । प्रधानमंत्री ने टीम की इंग्लैंड रवानगी से पहले हुई मुलाकात में उनका जिक्र किया जिस पर कोच और खिलाड़ी हैरान रह गए ।

शादाब के पूर्व क्लब के कोच सज्जाद अहमद ने कहा ,‘‘ क्रिकेट के लिये शादाब की प्रतिबद्धता अतुलनीय है ।’’

उन्होंने कहा ,‘‘ वह रात को नौ बजे सो जाता है और सूर्योदय से पहले मैदान पहुंच जाता है । कई साल से उसकी यही दिनचर्या है और वह घंटो अभ्यास करता हे ।’’

शादाब ने पंजाब प्रांत के मियांवाली जिले में सिंधु नदी के किनारे खुरदुरी पिचों पर क्रिकेट खेलना शुरू किया । यह इमरान और टेस्ट क्रिकेटर मिसबाह उल हक का भी घर है ।

पाकिस्तान की अंडर 16 टीम के साथ खेलने के बाद वह अंडर 19 विश्व कप (2016) के लिये चुने गए जिसमें उन्होंने 11 विकेट लिये ।

इसके बाद पाकिस्तान ए के लिये पदार्पण करके पांच विकेट चटकाये । उन्होंने श्रीलंका ए के खिलाफ अनधिकृत टेस्ट में 48 रन भी बनाये ।

पाकिस्तान सुपर लीग में इस्लामाबाद युनाइटेडके लिये खेलने के बाद उन्हें पाकिस्तान के लिये पदार्पण का मौका मिला । उन्होंने ब्रिजटाउन में विश्व चैम्पियन वेस्टइंडीज पर मिली टी20 जीत में मैन आफ द मैच का पुरस्कार पाया । उन्होंने चैम्पियंस ट्राफी 2017 में भारत के खिलाफ युवराज सिंह का कीमती विकेट चटकाया ।