अमेरिकी, अफगान बलों के हाथों मारे जाने वाले नागरिकों की संख्या अधिक: संयुक्त राष्ट्र

काबुल, संयुक्त राष्ट्र ने एक रिपोर्ट में कहा है कि अफगानिस्तान में अमेरिका और अन्य सरकार समर्थक बलों के अभियान में मरने वाले लोगों की तादाद पहली बार, तालिबान और दूसरे आतंकवादी समूह के हाथों मारे जाने वाले लोगों की संख्या से अधिक हो गई है।

यह दुखद आंकड़ा ऐसे समय में सामने आया है जब अमेरिका तालिबान के साथ शांति समझौते पर जोर देने के साथ साथ इस देश में वायु सेना की कार्रवाई तेज कर रहा है। तालिबान को साल 2001 में यहां से खदेड़ दिया गया था। तब से अब तक, किसी भी समय के मुकाबले देश के अधिकतर हिस्से पर तालिबान का नियंत्रण या प्रभाव है।

अफगानिस्तान में संयुक्त राष्ट्र सहायता मिशन (यूएनएएमए) ने एक तिमाही रिपोर्ट में कहा है कि 2019 के पहले तीन महीनों में 305 नागरिकों की मौत के लिए अंतरराष्ट्रीय और सरकार समर्थक सेनाएं जिम्मेदार थीं, जबकि विद्रोही समूहों ने 227 लोगों की हत्या की।

यूएनएएमए ने बताया कि ज्यादातर मौतें हवाई हमलों या जमीन पर उन खोज अभियानों की वजह से हुईं, जो मुख्य रूप से अमेरिका समर्थित अफगान सेना द्वारा चलाए गए।

रिपोर्ट में बताया गया है, ‘‘यूएनएएमए ने अफगान राष्ट्रीय सुरक्षा बलों और अंतरराष्ट्रीय सैन्य बलों, दोनों से उनके निष्कर्षों के परिणामों को प्रकाशित करने के लिए और पीड़ितों को उचित मुआवजा प्रदान करने के लिए नागरिकों के हताहत होने संबंधी आरोपों की जांच करने का आग्रह किया है।’’

यूएनएएमए ने अफगानिस्तान में बिगड़ते सुरक्षा हालात के बीच 2009 में नागरिकों के हताहत होने संबंधी आंकड़ों को संकलित करना शुरू किया था।