दबाव में शांतचित बने रहने से मिली सफलता : पोलार्ड

मुंबई, कीरेन पोलार्ड की 83 रन की तूफानी पारी से मुंबई इंडियन्स ने बुधवार की रात को यहां किंग्स इलेवन पंजाब के खिलाफ आखिरी गेंद पर तीन विकेट से जीत दर्ज की और कैरेबियाई क्रिकेटर ने बाद में कहा कि उनकी सफलता का राज दबाव में शांतचित बने रहना है।

चोटिल रोहित शर्मा की जगह टीम की अगुवाई कर रहे पोलार्ड ने 31 गेंदों की अपनी पारी में दस छक्के लगाये और मुंबई को जीत की दहलीज पर पहुंचाया। वह आखिरी ओवर के शुरू में आउट हो गये लेकिन अलजारी जोसेफ मुंबई को लक्ष्य तक पहुंचाने में सफल रहे।

पोलार्ड से मैच के बाद संवाददाता सम्मेलन में पूछा गया कि क्या यह उनकी सर्वश्रेष्ठ पारी थी, उन्होंने कहा, ‘‘आप हां भी कह सकते हो और न भी। महत्वपूर्ण यह है कि हम मैच जीतने में सफल रहे। मैं दबाव में शांतचित रहा। मैं मैच खत्म करना चाहता था। अंतिम क्षणों में शांतचित बने रहना अच्छा रहा।’’

उन्होंने कहा, ‘‘सभी खिलाड़ियों ने अपनी तरफ से भरपूर योगदान दिया। इसलिए इसे टीम खेल कहा जाता है।’’

इससे पहले वेस्टइंडीज के ही एक अन्य खिलाड़ी क्रिस गेल ने 36 गेंदों पर 63 रन बनाये जिसमें छह छक्के शामिल हैं लेकिन पोलार्ड दोनों के बीच किसी तरह की प्रतिद्वंद्विता नहीं मानते।

उन्होंने कहा, ‘‘हमारे लिये यह प्रतिद्वंद्विता नहीं है। यह हम जो कर रहे हैं उसका लुत्फ उठाने से जुड़ा है। (केएल) राहुल ने भी बहुत अच्छी बल्लेबाजी की और कुछ बेहतरीन शॉट लगाये। वह फार्म में भी लौट आया है। जब आप अपने दिमाग में कोई बात नहीं रखते हो तो फिर अपनी क्रिकेट का लुत्फ उठाते हो। ’’

 

Leave a Reply