खशोगी मामला: सऊदी युवराज के दो सहयोगियों की गिरफ्तारी चाहता है तुर्की

इस्तांबुल, तुर्की के एक अभियोजक ने मांग की है कि पत्रकार जमाल खशोगी की हत्या को लेकर सऊदी अरब के वली अहद मोहम्मद बिन सलमान के करीबी दो सऊदी नागरिकों के खिलाफ वारंट जारी किया जाये। तुर्की में जांच से जुड़े करीबी सूत्र ने बुधवार को यह जानकारी दी।

खशोगी (59) को दो अक्टूबर को इस्तांबुल में सऊदी अरब के वाणिज्य दूतावास में प्रवेश करने के कुछ ही देर बाद मार डाला गया था। वह अपनी अगामी शादी के लिए कागजात लाने गये थे।

इस्तांबुल में मुख्य अभियोजक कार्यालय में अहमद अल-असीरी और सऊद अल-कहतानी के खिलाफ वारंट जारी किए जाने की मांग को लेकर मंगलवार को आवेदन दायर किया गया था।

अदालत में पेश दस्तावेजों में उन्हें ‘वॉशिंगटन पोस्ट’ के पत्रकार खशोगी की हत्या के ‘‘मुख्य साजिशकर्ताओं’’ में शामिल बताया गया था।

असीरी विदेशी गणमान्य मेहमानों के साथ मोहम्मद बिन सलमान की अकेले में होने वाली बैठकों में अक्सर मौजूद रहते रहे हैं जबकि कहतानी उनके अहम सलाहकार हैं। सऊदी अरब के यह मान लेने के बाद कि खशोगी की हत्या की गयी है, दोनों बर्खास्त किए जा चुके हैं।

तुर्की के अनुसार खशोगी की हत्या करने के लिए 15 सदस्यीय सऊदी टीम इस्तांबुल भेजी गयी थी।

तुर्की के राष्ट्रपति रजब तैयब एर्दोआन ने कहा है कि खशोगी की हत्या करने का आदेश सऊदी सरकार के शीर्षतम स्तर से आया था लेकिन वह शाह सलमान नहीं थे।

Leave a Reply