संभावित घातक जीवाणु बन रहे हैं दवा प्रतिरोधी : अध्ययन

लंदन, वैज्ञानिकों की मानें तो ऑपरेशन के बाद जीवाणु की जिस किस्म से जानलेवा संक्रमण का खतरा रहता है, वह एंटीबायोटिक का प्रतिरोधी बनने के चलते अब तेजी से खतरनाक बनता जा रहा है।

इस जीवाणु का नाम ‘स्टेफीलोकोकस एपिडरमिडिस’। यह हर व्यक्ति की त्वचा पर बहुतायत में पाया जाता है। इसे गीले, पसीने वाली जगहों पर रहना पसंद है जैसे कि नाक की झिल्ली के अंदर बलगम के साथ, लार या दांतों के बीच रहना पसंद है।

प्राय: इस जीवाणु को डॉक्टरों और वैज्ञानिकों द्वारा अनदेखा कर दिया जाता है। लेकिन अब ब्रिटेन में बाथ विश्वविद्यालय के अनुसंधानकर्ताओं ने आगाह किया है कि इस जीवाणु से पनपने वाले खतरे को गंभीरता से लिया जाना चाहिए। जिन लोगों को संक्रमण का खतरा अधिक हो और जिनकी सर्जरी होनी की जानी हो, उनके लिये अतिरिक्त सावधानी बरती जानी चाहिए।

अनुसंधान रिपोर्ट ‘नेचर कम्युनिकेशंस’ पत्रिका में प्रकाशित हुई है। अध्ययन में ऐसे 61 जीन की पहचान की गयी जिनके कारण आम हानिरहित त्वचीय जीवाणु भी जानलेवा बीमारियां पैदा करने के योग्य बन जाते हैं।

अनुसंधानकर्ताओं ने उम्मीद जतायी कि इस अध्ययन से एस. एपिडर्मीडीस से होने वाले रोगों को समझने में मदद मिलेगी और भविष्य में वे इस बात का पता लगा सकेंगे कि किस मरीज को ऑपरेशन से पहले संक्रमण का खतरा अधिक है।