भारत बंद : मध्यप्रदेश में सामान्य जनजीवन प्रभावित

पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों के विरोध में कांग्रेस की तरफ से बुलाये गये ‘‘भारत बंद’’ के कारण आज मध्यप्रदेश के कई भागों में सामान्य जनजीवन प्रभावित हुआ ।

बंद के समर्थन में प्रदर्शनकारी उज्जैन और प्रदेश के अन्य शहरों में सुबह लोगों से दुकानें और पेट्रोल पम्प बंद कराते दिखाई दिये । कांग्रेस नेताओं ने प्रदेश के विभिन्न शहरों के बाजारों में बंद के समर्थन में सुबह रैलियां निकाली और दुकानदारों से अपनी दुकान आज बंद रखने की अपील की।

भोपाल में कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के पुत्र कार्तिकेय चौहान की बिट्टन मार्केट स्थित फूलों की दुकान के सामने विरोध प्रदर्शन किया। प्रदर्शन के पहले यह दुकान खुली थी ।

उज्जैन के चिमनगंज इलाके में कांग्रेस के झंडे लिये प्रदर्शनकारियों ने एक पेट्रोल पम्प को जबरदस्ती बंद करवाया। इस कारण उनकी पुलिसकर्मियों से उनकी हाथापाई भी हुई । चिमनगंज पुलिस थाने के प्रभारी निरीक्षक अरविंद तोमर ने कहा कि प्रदर्शनकारियों ने पेट्रोल पम्प पर रखे बैरिकेट्स फेंक दिये लेकिन इसके बाद पुलिस ने प्रदर्शनकारियों को वहां से खदेड़ दिया।

आदिवासी बहुल झाबुआ जिले में बंद का प्रभावी असर दिखाई दिया। पेट्रोल पम्प और बाजार दोपहर तक बंद रहे । झाबुआ जिला कांग्रेस अध्यक्ष निर्मल मेहता ने कहा, ‘‘बंद पर हमें लोगों का पूरा समर्थन मिल रहा है । दुकानदारों ने अपनी दुकानों को अपनी मर्जी से बंद किया है। इसके साथ ही जिले में पेट्रोल पम्प भी बंद है। विरोध प्रदर्शन के तौर पर स्थानीय सांसद कांतिलाल भूरिया ने बैलगाड़ी पर एक रैली भी निकाली है।’’ जबलपुर में हालांकि, कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों के विरोध प्रदर्शन के चलते एक पुरानी कार को आग लगा दी। जबलपुर कांग्रेस के नेता दिनेश यादव ने कहा, ‘‘हमने विरोध स्वरूप एक पुरानी कार को आग लगाकर नष्ट कर दिया क्योंकि मंहगा पेट्रोल डालकर इसे चलाना अब व्यर्थ है।’’ प्रदेश कांग्रेस के प्रवक्ता पंकज चतुर्वेदी ने दावा किया कि पेट्रोल डीजल की बढ़ती कीमतों के विरोध में किये गये भारत बंद को लोग स्वयं समर्थन दे रहे हैं । उन्होंने कहा, ‘‘कांग्रेस के बंद का लोग स्वयं समर्थन कर रहे हैं। भोपाल और इन्दौर के बाजारों सहित प्रदेश के अधिकांश हिस्सों में बाजार पूरी तरह से बंद हैं।’’ उन्होने कहा, ‘‘भोपाल में मुख्यमंत्री के पुत्र की फूलों की दुकान पहले खुली थी, लेकिन कांग्रेस के विरोध प्रदर्शन के बाद यह दुकान भी बंद कर दी गई। कांग्रेस नेताओं द्वारा प्रदेश भर में बंद के समर्थन में रैलियां निकाली गई।’’ दूसरी ओर प्रदेश भाजपा के प्रवक्ता रजनीश अग्रवाल ने कहा, ‘‘बंद के लिये कांग्रेस ने लोगों को धमकाते हुए अराजक और हिंसक तरीकों का सहारा लिया गया है। लोग हिंसा के खिलाफ हैं।’’ अग्रवाल ने दावा किया कि विपक्षी दल कांग्रेस के तमाम प्रयासों के बावजूद प्रदेश में बंद पूरी तरह से असफल रहा है। उन्होने कहा कि कांग्रेस सत्ता पाने के लिये हिंसा के सहारे कुछ भी करने के लिये उतारू हो गई है, जो कि उसकी नक्सलियों जैसी सोच को दर्शाता है।’’