भारतीय डाक विभाग की इंडिया पोस्ट पेमेंट बैंक योजना शीघ्र

उज्जैन। भारतीय डाक विभाग की अत्यंत महत्वपूर्ण महत्वाकांक्षी योजना इंडिया पोस्ट पेमेंट बैंक (आईपीपीबी) का परिचालन उज्जैन जिले के (उज्जैन, नागदा, खाचरौद, बड़नगर, महिदपुर, झारडा, तराना तहसीलों के अंतर्गत आने वाले लगभग 150 डाकघरों में) विभिन्न डाकघरों में कुल 6 चरण में होना है। प्रथम चरण में सम्भवत: इसी माह में कुल 5 डाकघर में एवं शेष सभी डाकघर में आगामी 6 माह में यह योजना प्रचलन में आ जायेगी। मध्य प्रदेश परिमंडल में भोपाल एवं उज्जैन दो प्रथम जिलों में यह योजना सर्वप्रथम लांच की जायेगी। आईपीपीबी देश की वित्तीय सेवा उपलब्ध कराने वाला सबसे बड़ा नेटवर्क होगा। डाकियों एवं ग्रामीण डाक सेवकों की मदद से यह लोगों को उनके घर तक वित्तीय सेवाएं और डिजिटल भुगतान सेवाएं पंहुचाने में सक्षम होगा। यह दूरदराज ग्रामीण और शहरी दोनों आबादी को वित्तीय सेवाएं देगा। इंडिया पोस्ट पेमेंट बैंक ग्राहकों, छोटे व्यवसायियों से एक लाख रुपये तक प्रति खाता जमा स्वीकार कर सकते हैं। आईपीपीबी में दो तरह के खाते (बचत खाता एवं चालू खाता) खोले जा सकते हैं। पोस्टमेन अथवा ग्रामीण डाक सेवक डाक वितरण के समय आईपीपीबी के खाते घर-घर जाकर खोलेंगे एवं ग्राहकों बैंकिग सुविधाएं प्रदान करेंगे। आईपीपीबी अपने समस्त ग्राहकों को एक टोल फ्री नम्बर प्रदाय करेगा, जिस पर मिस्ड काल देकर ग्राहक अपनी सुविधा का लाभ प्राप्त कर सकेगा। इस कार्य हेतु उज्जैन संभागीय कार्यालय में छोटे-छोटे बैच में उनको प्रशिक्षण प्रदाय करने की कार्यवाही जारी है। पोस्टमेन एवं ग्रामीण डाक सेवक को आईपीपीबी खाते खोलने हेतु मोबाईल एवं थम्ब रीडर प्रदाय किया जायेगा, जिसके माध्यम से पोस्टमेन अथवा ग्रामीण डाक सेवक मौके पर ही चन्द मिनटों में ग्राहकों के खाते खोल देंगे एवं ग्राहकों को एक कार्ड प्रदाय कर देंगे। यह काई पूर्णतया डिजीटल होगा। खाताधारक के खाते सम्बंधित समस्त जानकारी इस कार्ड में ही होगी। यह कार्ड ही धारक का पासबुक होगा।

आईपीपीबी बैंकिग कार्य के अतिरिक्त थर्ड पार्टी सर्विसेज जैसे कि इंश्युरेंश, म्युचुअल फंड, मोबाईल रिचार्ज, बिजली बिल एवं पानी बिल भुगतान, शासन की सब्सिडी का लाभ प्रदाय करना आदि सेवाओं का कार्य करेगा। आईपीपीबी ग्राहक नेफ्ट, आर.टी.जी.एस. एवं अन्य डिजीटल मनी ट्रांसफर सर्विसेज भी इस्तेमाल कर पायेंगे। आईपीपीबी खाते को वर्तमान में पोस्ट आफिस में संचालित बचत बैंक एवं अन्य खातों को आपस में जोड़ा जायेगा। जिसके लिये वर्तमान में पोस्ट आफिस में संचालित खाताधारकों को अपना मोबाईल एवं आधार नम्बर पोस्टआफिस में जाकर जुड़वाना अनिवार्य होगा। अत: सभी खाताधारक अपना मोबाईल एवं आधार नम्बर शीघ्र डाकघर में सम्पर्क कर खातों से लिंक करवा लें। ग्रामीण क्षेत्र के लगभग 70 प्रतिशत आबादी आज भी वित्तीय एवं बैंकिंग सुविधाओं से वंचित है तथा इंडिया पोस्ट पेमेंट बैंक निश्चित ही शासन के सम्पूर्ण वित्तीय समावेशन के सपनों को साकार करने में महत्वपूर्ण योगदान प्रदाय करेगा। केंन्द्र सरकार की कैशलेस इंडिया विजन को धरातल पर क्रियान्वयन में महत्वपूर्ण योगदान देगा।