अवसाद, चिंता हृदय रोगियों के लिए घातक

वाशिंगटन ,  हृदय रोगियों को वैसे तो खुद को स्वस्थ रखने के लिए कई सावधानियां बरतनी पड़ती है लेकिन यदि ऐसे रोगी अवसाद और चिंता से ग्रस्त हो जाये तो इससे उनके स्वास्थ्य पर बुरा असर पड़ सकता है।

एक अध्ययन में पाया गया है कि हृदय के रोगियों में से लगभग एक तिहाई लोगों में अवसाद और चिंता के लक्षण मौजूद हैं , जिससे उनमें हृदय रोग और अन्य प्रतिकूल प्रभावों का खतरा बढ़ जाता है।

अमेरिका में मैसाचुसेट्स जनरल अस्पताल के क्रिस्टोफर सेलानो ने कहा कि हृदय रोग के मरीजों में अवसाद और चिंता की स्थिति बनी रहती है।

सेलेनो ने कहा ,‘‘ जिन लोगों के दिल ने ठीक से काम करना बंद कर दिया है और उनमें मनोवैज्ञानिक बीमारी के लक्षण भी है तो ऐसे में मनोवैज्ञानिक बीमारी का निदान करना चुनौतीपूर्ण हो सकता है। ’’

उन्होंने कहा ,‘‘ दिल का काम करना बंद करना और अन्य हृदय रोगों की उत्पत्ति को अवसाद से जोड़ा गया है। ’’

Leave a Reply