बलात्कार की घटनाओ को देख एक सुर में बोला मुस्लिम समाज, कहा- माँ हो तो पापी बेटे के पक्ष में नहीं, पीड़ित बेटी के पक्ष में बोलो

उज्जैन। मंदसौर सहित देशभर में बढ़ रही बलात्कार की घटनाओं के विरोध में ६ जुलाई को मुस्लिम समाज एकजुट हुआ। उज्जैन में शुक्रवार को जुमे की नमाज के बाद मुस्लिम समाज ने मंदसौर सहित देश भर में बच्चियों के साथ हो रही दुष्कर्म की घटना का विरोध दर्ज किया। समाज के लोगों का विरोध रेप को लेकर था। मुसलमानों ने शहर उज्जैन के बेनर तले ६ जुलाई को समाज के लोग के डी गेट चौराहे पर दोपहर 2.30 बजे एकजुट हुए। समाज की ये एकजुटता मंदसौर में 7 साल की बच्ची के साथ हुई रेप की घटना को लेकर थी। समाज ने माना कि देश भर में बच्चियां असुरक्षित हैं और हेवानियत बढ़ती जा रही हैं, जिसको लेकर सरकार के साथी ही समाज को भी बढ़ा कदम उठाना होगा।

समाज के वरिष्ठ लोग हुए शामिल

बलात्कार के खिलाफ हुए विरोध प्रदर्शन में मुस्लिम समाज के वरिष्ठ जन मौजूद रहे। कार्यक्रम की जानकारी देते हुए फहीम सिकन्दर ने बताया कि मुसलमानों ने शहर उज्जैन कमेटी के बैनर तले हुए इस आयोजन में मदीना मस्जिद के इमाम मो. अली नक्शबंदी साहब, शहर काजी खालिकुर्रह्मान, हाजी तकी साहब, संभागीय काजी हिफ्जुराह्मान, सहाबुद्दीन खालवाले, छुट्टू कुरैशी, भुट्टू भाई, इरफ़ान भाई, शकील पटेल, कल्लू भाई, अय्यूब कुरैशी, हाजी जाकिर खालवाले, इनायत खालवाले के साथ ही शहर के जनप्रतिनिधि माया राजेश त्रिवेदी और कांग्रेस नेत्री नूरी खान मौजूद रही।

महिला होने के नाते माँ अपने बेटे का नहीं पीड़ित बेटे का पक्ष लें
कार्यक्रम के आयोजक मो अली नक्शबंदी साहब ने अपने संबोधन में कहा कि बलात्कार की घटना दुखद है दरिंदा किसी भी धर्म समाज का क्यों ना हो अगर गुनेहगार है तो ऐसे दरिंदो के पक्ष में उनके परिवार को नहीं उतरना चाहिए, उस दरिन्दे की माँ को ही सबसे पहले अपने महिला होने का परिचय देते हुए बेटे का पक्श लेने की बजाए, पीड़ित बेटी की ओर से फरियादी बनना चाहिए ताकि समाज में अच्छा पैगाम पहुंचे।

कार्यक्रम में बड़ी संख्या में समाज के लोग मौजूद रहे, जिन्होंने घटना पर दु:ख व्यक्त किया। कार्यक्रम के अंत में समाज के प्रतिनिधि मंडल ने एक ज्ञापन मुख्यमंत्री के नाम नायब तहसीलदार दीपाली जाधव को दिया, जिसमें ऐसे दरिंदों को एक महीने में सजा ए मौत देने की मांग की। कार्यक्रम का संचालन फहीम सिकंदर ने किया। आभार नासिर बेलिम ने माना।