विश्व कप में खुलकर दांव लगा रहे हैं चीन के लोग

शंघाई,  चीन की टीम ने भले ही रूस में चल रहे विश्व कप के लिए क्वालीफाई नहीं किया हो लेकिन इससे देश के सट्टेबाजों के जोश में कोई कमी नहीं आई है और वे खुलकर टीमों पर अपना दांव लगा रहे हैं।

चीन में विश्व कप 2018 को लेकर चल रही सट्टेबाजी का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि पहले तीन हफ्तों में ही इसने ब्राजील में 2014 में पूरे विश्व कप के दौरान हुए सट्टेबाजी की राशि के आंकड़े को काफी पीछे छोड़ दिया है।

चीन में सट्टेबाजी तकनीकी रूप से अवैध है लेकिन सरकार से स्वीकृत दुकानों पर खेल पर सट्टेबाजी के लिए पैसा लगाया जा सकता है।

फ्रांस और अर्जेन्टीना के बीच पहले नाकआउट मैच से पूर्व केमिन या लाटरी सिटीजन के नाम से मशहूर सट्टेबाजों को बड़ा दांव लगाने के लिए लाइनों में खड़ा देखा गया।

पचपन साल के गाओ ल्यूशुन ने अर्जेन्टीना पर पैसा गंवाया इसलिए अर्जेन्टीना की जीत पर दांव दोगुना कर दिया। उन्होंने कहा, ‘‘मुझे वह पैसा वापस जीतने की जरूरत थी जो मैंने गंवाया।’’

फ्रांस हालांकि 4-3 से जीत दर्ज करने में सफल रहा और गाओ को विश्व कप का अपना अब तक का सबसे बड़ा नुकसान उठाना पड़ा।

चीन स्पोर्ट्स लाटरी मैनेजमेंट सेंटर के अनुसार चीन ने एक जुलाई तक तीन हफ्ते में 28 अरब 60 करोड़ युआन दांव पर लगाए जबकि इससे पहले के तीन हफ्तों में यह राशि सिर्फ पांच अरब युआन थी।

यह ब्राजील में 2014 विश्व कप के दौरान सट्टेबाजी पर लगाए गए लगभग 11 अरब 50 लाख युआन से दोगुनी से अधिक है जबकि इसमें अवैध तरीके से होने वाली सट्टेबाजी शामिल नहीं है जो देश में बड़े पैमाने पर होती है।