उज्‍जैन में दो घंटे के भीतर बरसा 2 इंच पानी, सफाई अमले की पोल खुली

उज्जैन, । बुधवार अपराह्न में 2 घंटे तक हुई झमाझम बारिश में करीब 2 इंच पानी बरस गया। इन दो घंटों ने नगर निगम के सफाई अमले की पोल जमकर खोली। पुराने शहर में तो जलजमाव के हालात यह रहे कि सड़कों पर यातायात प्रभावित रहा। कॉलोनियों में भी अनेक जगहों पर जलजमाव की शिकायत मिली। अभी भी शहर के भीतर और बाहर अनेक जगहों पर नाले-नालियों से अतिक्रमण नहीं हट पाए हैं। ऐसे में यदि पांच-दस इंच बारिश एक साथ हो गई तो पूरे शहर की सड़कें डूबने की आशंका है।

बुधवार को दो घंटे में 2 इंच बारिश ने नगर निगम के स्वास्थ्य विभाग को आईना दिखा दिया। शहर में हुए जलजमाव के कारण जहां यातायात जाम रहा वहीं लोग भी जमकर परेशान हुए। बारिश इतनी तेज थी कि राह चलते लोगों को संभलने का मौका नहीं मिला। इधर दोपहिया वाहनों के सायलेंसरों में पानी घुस गया। इसके चलते अनेक वाहन बीच सड़क पर बंद हो गए। यातायात जाम में ऐसे बंद वाहनों का भी योगदान रहा। सडक़ों पर हालात यह थे कि मुख्य मार्गों पर भी जलजमाव के कारण गंदगी बीच सडक़ तक तैर रही थी। पैदल चालकों के साथ समस्या खड़ी हो गई क्योंकि न तो उन्हें सड़क पर नाली दिख रही थी और न ही गड्ढे। ऐसा लग रहा था मानों बादल फट गए हों और 5-10 इंच बारिश हो गई हो।
कॉलोनियों के हालात भी इन दो घंटों में जमकर बिगड़े। पुराने शहर और नए शहर की बहुत सी कॉलोनियों में जलजमाव के हालात बने। सडक़ों पर आधे से एक फीट पानी भर गया। कुछ निचली कॉलोनियों में पानी घुसने से घरों में भी स्थिति खराब रही। इस सबके बीच निगम का सफाई अमला अभी भी नाले-नालियों को साफ करने के प्रति कटिबद्ध दिखाई नहीं दे रहा है। लोगों का आरोप है कि रोजाना सफाईकर्मी सडक़ तो साफ कर देते हैं लेकिन नालियों में कचरा और गाद जमा रहती है। नालियां साफ नहीं होने के कारण जलजमाव के हालात बनते हैं। बुधवार को यही मुख्य कारण रहा।

शहर में अभी तक 5 इंच वर्षा
शहर में 1 जून से बुधवार शाम तक इस वर्षा सत्र में 5.6 इंच बारिश दर्ज हो चुकी थी। इधर जिले में 6.7 इंच वर्षा हो चुकी है। गत वर्ष इस अवधि में जिले में करीब 5 इंच वर्षा दर्ज हुई थी। भू अभिलेख कार्यालय से प्राप्त जानकारी के अनुसार इस वर्ष अभी तक तराना तहसील में सर्वाधिक 222 मिमी और सबसे कम घट्टिया तहसील में 76 मिमी वर्षा हुई है। पिछले चौबीस घंटों के दौरान बुधवार प्रात: तक खाचरौद तहसील में 5 मिमी, नागदा में 18, बडऩगर में 11, महिदपुर में 16 और तराना तहसील में 12 मिमी वर्षा हुई है। इस प्रकार चौबीस घंटे में जिले में औसत 8.8 मिमी वर्षा रिकार्ड की गई है। उज्जैन तहसील में 106, घट्टिया में 76, खाचरौद में 192, नागदा में 209, बडऩगर में 167, महिदपुर में 83 और तराना तहसील में 22 मिमी वर्षा हुई है। गत वर्ष इसी अवधि में उज्जैन तहसील में 146, घट्टिया में 150, खाचरौद में 156, नागदा में 126, बडऩगर में 118, महिदपुर में 47 और तराना तहसील में 118 मिमी वर्षा हुई थी।

वर्षा के चलते शहर में तापमान में कमी आई है। मौसम में आई ठण्डक से शहरवासियों ने राहत महसूस की। बुधवार को दिन का अधिकतम तापमान साढ़े 28 डिसे रहा। वहीं बीती रात न्यूनतम तापमान साढ़े 23 डिसे रहा। हवा की गति 8 किमी प्रति घण्टा थी।