प्रधानमंत्री ने दिल्ली मेट्रो के मुंडका-बहादुरगढ़ कॉरिडोर का किया उद्घाटन

नयी दिल्ली ,  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज दिल्ली मेट्रो के मुंडका – बहादुरगढ़ खंड का उद्घाटन करते हुए कहा कि उनकी सरकार की प्राथमिकता शहरों में सुगम , आरामदायक और सस्ता परिवहन व्यवस्था बनाने की है।

वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए इस नए खंड का उद्घाटन करते हुए उन्होंने कहा कि यातायात संपर्क और विकास का एक – दूसरे के साथ सीधा संबंध है।

उन्होंने अपने संबोधन में कहा , “ हमारी सरकार ने मेट्रो के लिए नीति बनायी। ऐसा इसलिए किया गया, क्योंकि हमने महसूस किया कि मेट्रो के लिए सुसंगत कार्य की बड़ी जरूरत होती है। ”

प्रधानमंत्री ने कहा कि उनकी सरकार मेट्रो ट्रेनों के कोच भारत में बनाकर मेक इन इंडिया को बढ़ावा देना चाहती है।

मोदी ने कहा , “ दिल्ली मेट्रो और अन्य मेट्रो को बनाने में कई देशों ने हमारी मदद की और अब हम अन्य देशों की मेट्रो प्रणाली के लिए कोच डिजाइन करके उनकी मदद कर रहे हैं। ”

प्रधानमंत्री ने कहा कि मेट्रो प्रणाली का निर्माण सहयोग के संघवाद से भी जुड़ा हुआ है।

उन्होंने कहा , “ जहां कहीं भी भारत में मेट्रो बन रहा है , केंद्र और संबंधित राज्य की सरकार साथ काम कर रही है। ”

प्रधानमंत्री ने कहा , “ नए भारत को नये और स्मार्ट ढांचे की जरूरत है। हमने सड़कों , रेलवे , राजमार्ग , हवाईमार्ग , जलमार्ग और इंटरनेट संपर्क पर काम किया। यातायात संपर्क और समय से विकास परियोजनाओं को पूरा करने पर हमारा ध्यान अद्वितीय रूप से केंद्रित है। ”

उन्होंने कहा कि बहादुरगढ़ में काफी आर्थिक विकास हुआ है। यहां कई शैक्षणिक केंद्र हैं। यहां के छात्र दिल्ली तक की यात्रा करते हैं।

मोदी ने कहा , “ मेट्रो यहां के लोगों को सुविधा प्रदान करेगा , इसे हरियाणा का गेटवे माना जाता है … हमने देखा है कि दिल्ली मेट्रो ने लोगों के जीवन पर किस तरह का सकारात्मक प्रभाव डाला है। ”

मुंडका – बहादुरगढ़ का पूर्णतया एलिवेटेड 11.2 किलोमीटर वाला कॉरिडोर दिल्ली मेट्रो के ग्रीन लाइन का हिस्सा है। मुंडका – बहादुरगढ़ के इस खंड में सात स्टेशन हैं।

केंद्रीय शहरी विकास मंत्री हरदीप पुरी और हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने बहादुरगढ़ में इस खंड के उद्घाटन में हिस्सा लिया।

मेट्रो के इस कॉरिडोर को खोले जाने के बाद इंद्रलोक – बहादुरखंड 26.33 किलोमीटर लंबा हो जाएगा।

दिल्ली मेट्रो का नेटवर्क 208 स्टेशन के साथ 288 किलोमीटर का हो गया है।

यह खंड दिल्ली के पड़ोसी राज्य हरियाणा के संपर्क का तीसरा लाइन है। यहां इससे पहले ही गुड़गांव और फरीदाबाद तक मेट्रो सेवा है।