अवसाद की तीव्रता को कम करता है योग: एम्स रिपोर्ट

नयी दिल्ली ,  योग से शरीर तथा दिमाग को होने वाले फायदे किसी से छिपे नहीं हैं लेकिन अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) के हाल में हुए एक अध्ययन से पता चला है कि योग करने से मस्तिष्क में कुछ खास तरह के रसायन के स्तर में बढोतरी होती है जिससे अवसाद की तीव्रता कम करने में मदद मिलती है।

एम्स के एनाटॉमी विभाग के लैबोरेटरी ऑफ मॉलीक्यूलर रीप्रोडक्शन एडं जेनेटिक्स की प्रभारी प्राध्यापक रीमा डाडा ने बताया कि इस अध्ययन से पता चला है कि लाइफस्टाइल में योग को शामिल करने से कॉर्टिसोल में कमी आती है।यह तनाव लाने वाला मुख्य हार्मोन है , साथ ही यह सूजन लाने वाले खास अणुओं के स्तर को शरीर तथा मस्तिष्क में भी कम करता है। इससे तनाव में कमी आती है।

उन्होंने कहा कि ऑक्सीडेटिव तथा मानसिक तनाव के स्तर को कम करके उम्र बढ़ने की गति को भी धीमा किया जा सकता है। इससे टेलोमेर की लंबाई को बनाए रखने में भी मदद मिलती है।

उन्होंने बताया कि ‘ रेस्टोरेटिव न्यूरोलॉजी एंड न्यूरोसाइंस ’ जर्नल में छपे अध्ययन के मुताबिक ध्यान लगाना एवं योग अवसाद की तीव्रता को कम कर सकता है।

यह अध्ययन लेबोरेट्री फॉर मोलिक्यूलर रिप्रोडक्शन एंड जेनेटिक्स ने मनोरोग विभाग के साथ मिलकर किया।