कठुआ कांड के गवाहों की याचिका पर न्यायालय बुधवार को करेगा सुनवाई, पुलिस उत्पीड़न का आरोप

नयी दिल्ली , उच्चतम न्यायालय कठुआ की आठ वर्षीय बच्ची से सामूहिक बलात्कार और हत्या के मामले में गवाहों की याचिका पर 16 मई को सुनवाई करेगा। इन गवाहों का आरोप है कि पुलिस उन्हें परेशान कर रही है।

प्रधान न्यायाधीश दीपक मिश्रा , न्यायमूर्ति ए एम खानविलकर और न्यायमूर्ति धनन्जय वाई चन्द्रचूड़ की खंडपीठ के समक्ष आज साहिल शर्मा और दो अन्य की याचिका का उल्लेख किया गया। ये दोनों किशोर आरोपी के कालेज के दोस्त हैं। पीठ इस मामले में बुधवा को सुनवाई करने के लिये सहमत हो गयी।

इन गवाहों की याचिका के अनुसार वे पहले ही पुलिस और मजिस्ट्रेट के समक्ष अपने बयान दर्ज करा चुके हैं। इन तीनों ने मजिस्ट्रेट के समक्ष अपने बयान में कहा था कि उन्होंने डर की वजह से पुलिस को बयान दिया था।

याचिका में आज आरोप लगाया गया कि राज्य पुलिस अब उन्हें दुबारा पेश होने और फिर से बयान दर्ज कराने के लिये कह रही है तथा उनके परिवारों पर दबाव डाल रही है।

शीर्ष अदालत ने सात मई को कठुआ मामले को जम्मू कश्मीर से बाहर पंजाब में पठानकोट स्थानांतरित कर दिया था।

घुमंतु समुदाय की आठ वर्षीय बच्ची कठुआ के एक गांव मे अपने घर के पास से खेलते समय 10 जनवरी लापता हो गयी थी। एक सप्ताह बाद उसी इलाके में बच्ची का शव मिला था।

इस मामले में राज्य पुलिस ने सात आरोपियों के खिलाफ मुख्य आरोप पत्र दाखिल किया है जबकि किेशोर आरोपी के खिलाफ कठुआ की अदालत में अलग से आरोप पत्र दाखिल किया गया है।

Leave a Reply