अरब लीग शिखर सम्मेलन में सीरिया, ईरान के छाये रहने की संभावना

दहरान ,  सीरिया को लेकर अंतरराष्ट्रीय शक्तियों के टकराव और सऊदी अरब एवं ईरान के मध्य बढ़ते तनावों के बीच आज सऊदी अरब में एक शिखर सम्मेलन का आयोजन होने जा रहा है। हालांकि इसमें सीरिया के राष्ट्रपति सीरिया के राष्ट्रपति बशर अल – असद शामिल नहीं होंगे।

अरब लीग के इस वार्षिक सम्मेलन में सऊदी अरब अपने क्षेत्रीय धुर विरोधी ईरान के खिलाफ सख्त रुख अपनाने पर जोर दे रहा है।

दोनों धुर विरोधी देश सऊदी अरब एवं ईरान , सीरिया तथा सऊदी अरब के दक्षिण पड़ोसी देश यमन में छद्म युद्धों में उलझे रहे।

सीरिया में विद्रोहियों के गढ़ माने जाने वाले पूर्वी घोउटा में पिछले सप्ताह शासन के रासायनिक हमलों के जवाब में अमेरिका , फ्रांस एवं ब्रिटेन के विवादास्पद हवाई हमले शुरू किये जाने के करीब 24 घंटे बाद यह शिखर सम्मेलन शुरू हुआ।

सऊदी अरब और कतर ने इन हमलों का समर्थन किया है , जबकि दोनों देशों में कई महीनों से राजनयिक गतिरोध बना हुआ है। सऊदी अरब कतर पर इस्लामी चरमपंथियों का समर्थन करने और ईरान से निकटता का आरोप लगाता रहा है।

वर्ष 1945 में अरब लीग के शिखर सम्मेलन की शुरुआत हुई थी। वर्ष 2011 में युद्ध में असद शासन की भूमिका को लेकर इस संगठन से सीरिया की सदस्यता निलंबित कर दी गयी थी।

सीरिया अब भी इस संगठन से निलंबित है।

सऊदी अरब के शाह सलमान दहरान शहर आयोजित हो रहे शिखर सम्मेलन की अगुवाई करेंगे।