एलसीवी श्रेणी में धीरे-धीरे उपस्थिति बना रही मारुति सुजुकी

नयी दिल्ली,  मारुति सुजुकी इंडिया हल्के वाणिज्यिक वाहन (एलसीवी) श्रेणी में धीरे-धीरे उपस्थिति दर्ज कराने लगी है। कंपनी के ‘सुपर कैरी मिनी ट्रक’ की बिक्री में 2017-18 के दौरान 10 गुना तेजी आयी है।

कंपनी ने 2016-17 में 900 सुपर कैरी की बिक्री की थी जो वित्त वर्ष 2017-18 में बढ़कर 10,033 इकाई पर पहुंच गयी। इस एलसीवी को सितंबर 2016 में बाजार में उतारा गया था।

मारुति सुजुकी 700 किलोग्राम तक वजन ढोने में सक्षम मिनी ट्रक श्रेणी में धीरे-धीरे मौजूदगी बढ़ा रही है। इस श्रेणी में कंपनी के सुपर कैरी की प्रतिस्पर्धा टाटा एस, महिंद्रा सुप्रो और पिआजियो पोर्टर से है।

कंपनी के एक प्रवक्ता ने बताया कि उसने एलसीवी की बिक्री 2016 में चुनिंदा शहरों में शुरू की थी। मार्च 2018 तक यह नेटवर्क बढ़कर देश भर में 190 बिक्री केंद्रों तक पहुंच गया।

प्रवक्ता ने बिक्री बढ़ने में उपभोक्ताओं से मिली सकारात्मक प्रतिक्रिया का भी योगदान होने का जिक्र करते हुए कहा, ‘‘159 शहरों के इस देशव्यापी बिक्री नेटवर्क और बेहतर प्रतिक्रिया के दम पर हम पिछले छह महीनों में प्रति माह एक हजार इकाइयों से अधिक की बिक्री कर पाने में सक्षम हुए हैं।’’

इस साल की शुरुआत में सुपर कैरी 25 राज्यों के 140 शहरों में कंपनी के 162 बिक्री केंद्रों पर उपलब्ध था।

बाजार में 2016 में पेश किये जाने के बाद इसकी बिक्री तीन शहरों अहमदाबाद, कोलकाता और लुधियाना में शुरू की गयी थी।

कंपनी ने इस साल की शुरुआत में कहा था कि उसकी योजना भविष्य में एलसीवी श्रेणी में महत्वपूर्ण भागीदार बनने तथा सभी संभावित जगहों के साथ देश भर में उपस्थिति दर्ज करने की है।

हालांकि, कंपनी को अभी लंबा सफर तय करना होगा। प्रतिस्पर्धी टाटा मोटर्स ने महज मार्च महीने में ही एस मिनी ट्रक की 14,286 इकाइयां बेची हैं। इसकी तुलना में मारुति सुजुकी मार्च में सुपर कैरी की 1,412 इकाइयां ही बेच सकी।

कंपनी मिनी ट्रक की देश में बिक्री करने के अलावा दक्षिण अफ्रीका एवं तंजानिया जैसे चुनिंदा अफ्रीकी देशों को इसका निर्यात भी करती है।