अंबेडकर जयंती के लिए समग्र हिंदू समाज ने बीड़ा उठाया सामाजिक सद्भाव समिति गठित

उज्जैन। आगामी 14 अप्रैल को आने वाली डॉक्टर भीमराव रामजी अंबेडकर जयंती के परिप्रेक्ष में सामाजिक समरसता विभाग ने उज्जैन के समस्त समाज बंधुओं की एक बैठक आहूत की। माधव सेवा न्यास में संपन्न इस बैठक में नगर के 65 समाज प्रमुखों सहित अन्य पदाधिकारियों की संख्या 255 थी जिसमें 43 मातृशक्ति की उपस्थिति विशेष उल्लेखनीय रही। बैठक को माननीय श्रीपाद जी जोशी, श्री विनय जी दीक्षित और सामाजिक समरसता के विभाग संयोजक संजय जी जाला ने संबोधित किया। अपने उद्बोधन में श्री दीक्षित जी ने समसामयिक परिस्थिति में बाबासाहेब आंबेडकर के व्यक्तित्व और कृतित्व को आम समाजजनों को सुलभ करने की आवश्यकता पर बल दिया। आपने कहा कि कोई भी महापुरुष किसी एक समाज का नहीं होता, उनका अपना समर्पण और त्याग भी संपूर्ण राष्ट्र के लिए होता है और वह सभी समाज के आदर्श होते हैं। बाबा साहेब हम सभी के हैं इस दृष्टि से उनकी जयंती का पर्व सभी समाजों को मिलकर उल्लास के साथ सम्मेलन के रूप में मनाया जाना चाहिए। बैठक में उपस्थित समाज प्रमुखों ने सर्वानुमति से 14 अप्रैल को सायंकाल 6.30 बजे रामघाट पर इस आयोजन को करने की सहमति देते हुए उक्त कार्यक्रम के संयोजक के रुप में श्री कुलदीपक जोशी का नाम तय किया गया। कार्यक्रम प्रारंभ होने के पूर्व समस्त समाज के महिला मंडलों द्वारा संपूर्ण घाट को रांगोली से सजाया जाएगा जिसके पश्चात लोक संगीत व भजन के कार्यक्रम की प्रस्तुतियां होगी। इसके बाद संतों का आशीर्वाद ग्रहण करते हुए मुख्य वक्ता द्वारा बाबासाहेब आंबेडकर के व्यक्तित्व से समाज को अवगत कराया जाकर शिप्रा मैया की भव्य आरती का आयोजन करने का और अंत में भोजन प्रसादी के आयोजन का प्रस्ताव सर्वानुमति से पारित हुआ। अखिल भारतीय ब्राह्मण महासभा व भावसार समाज सहित अन्य समाजों की महिला मंडल ने संपूर्ण घाट को रंगोली से सजाने की सहमति दी जैन समाज द्वारा रंगोली उपलब्ध कराने और जायसवाल समाज द्वारा पेयजल की व्यवस्था की घोषणा की गई। सिख समाज ने कार्यक्रम के पश्चात समग्र हिन्दू समाज को भोजन प्रसादी का निमंत्रण दिया।