यरूशलम का ऐतिहासिक गिरजाघर खुला, कर लगाने के विरोध में तीन दिन से बंद था

यरुशलम, ईसाई धर्म में सबसे अधिक पवित्र माने जाने वाले स्थल पर बना गिरजाघर आज खुल गया। इस्राइल के अधिकारियों द्वारा लिए गए कुछ फैसलों के विरोध में यह तीन दिन से बंद था।होली सेपुल्कर गिरजाघर की देखरेख करने वाले दो व्यक्तियों ने आज सुबह करीब चार बजे इसके लकड़ी से बने भव्य दरवाजे खोले। रविवार दोपहर को शुरू हुआ विरोध इसके साथ ही समाप्त हो गया।इसके कुछ ही देर बाद श्रद्धालु यहां आए।गिरजाघर के भीतर यीशू का मकबरा है।माना जाता है कि यह गिरजाघर उस स्थान पर बना है जहां यीशू को सूली पर चढ़ाया और दफनाया गया था और वे यहीं पर पुनर्जीवित हुए थे।वर्ष 1990 के बाद यह पहली बार है जब गिरजाघर इतनी लंबी अवधि के लिए बंद हुआ है।कल इस्राइल ने उन कर उपायों को निलंबित कर दिया था जिनका कड़ा विरोध हो रहा था। उस कानून को भी रद्द किया गया जिसके बारे में ईसाई नेताओं का कहना था इसके बाद इस्राइल गिरजाघर की भूमि को जब्त कर सकता है। इसके बाद ईसाई नेताओं ने गिरजाघर को फिर से खोलने का फैसला लिया।